शरद पूर्णिमा पर धन के राजा कुबेर होते हैं इन मंत्रों से प्रसन्न

कुबेर धन के राजा हैं। पृथ्वीलोक की समस्त धन संपदा का एकमात्र उन्हें ही स्वामी बनाया गया है। कुबेर भगवान शिव के परमप्रिय सेवक भी हैं। धन के अधिपति होने के कारण इन्हें शरद पूर्णिमा की रात मंत्र साधना द्वारा प्रसन्न करने का विधान बताया गया है। प्रस्तुत है मंत्र …


कुबेर का प्राचीन दिव्य मंत्र
ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन धान्याधिपतये

धन धान्य समृद्धिं मे देहि दापय दापय स्वाहा।।


कुबेर मंत्र

ॐ श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय: नम:।


विनियोग- अस्य श्री कुबेर मंत्रस्य विश्वामित्र ऋषि:वृहती छंद: शिवमित्र धनेश्वरो देवता समाभीष्टसिद्धयर्थे जपे विनियोग:


कुबेर का विलक्षण सिद्ध मंत्र-
* मनुजवाह्य विमानवरस्थितं गुरुडरत्नानिभं निधिनाकम।

शिव संख युक्तादिवि भूषित वरगदे दध गतं भजतांदलम।।


* कुबेर का अष्टाक्षर मंत्र- ॐ वैश्रवणाय स्वाहा:


* कुबेर का षोडशाक्षर मंत्र- ॐ श्री ॐ ह्रीं श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नम:।