Chalisa

The power of Hanuman Chalisa and how it can help you

The power of Hanuman Chalisa and how it can help you

Lord Hanuman is one of the most loved deities of Hinduism — he is known as a strong and fearless God, who deeply loves his devotees and protects them from all sorts of struggle. It is said that chanting the Hanuman Chalisa regularly will purify one’s mind, body and soul.

Reciting these verses of Hanuman Chalisa

Even though the Hanuman Chalisa is considered to be auspicious to be read as a whole, there are certain verses (chaupai) of it that if chanted regularly will solve all your problems. Read on to know what these verses are.

Verse one

The first verse goes like this — “Bhoot pishash nikat nahi aave, mahavir jab naam sunave” —- if you think that there are negative energies in your house or if you scared in the night, then you should chant this verse for 108 times everyday, each in the morning and the evening.

Verse two

The second verse goes like this — “Naase rog mite sab peera, japat nirantar hanuman balbira” — if someone is always surrounded by problems, then he should recite this verse for 108 times daily. This apart, every Tuesday, he or she should read the entire Hanuman Chalisa.

Third verse

The third verse goes like this — “Asht sidhi nav nidhi ke daata, as bar deen jaanki mata” — this verse is for those who want to succeed in life. One should chant this verse for 108 times every morning, preferably before sunset.

Verse 4

The fourth verse goes like this —- “Vidyavaan guni ati chaatur, ramkaj karibe ko aatur” — this versa is especially beneficial for students who want to get good grades and for professionals looking for a job. Reciting this verse for 108 times everyday will give you good results.

Verse 5

The fifth verse goes like this — “Bheem roop dhari asur sanhare, ramchandra ji ke kaanj savare ” —- this verse is for people who have a lot of enemies in life. All you need to do is to recite this verse for 108 times everyday.

How to do Hanuman puja?

Now, let us talk about how you should do Hanuman puja at home Firstly, you should definitely do the Hanuman Puja at home on Tuesdays and Saturdays. You should also, if possible, go to a temple on these two days.

Non veg food

One should also refrain from having non-veg food on Tuesdays and Saturdays to please Hanuman. Not only this, if you can, you should completely give up having non-veg food if you want to seek the blessings of Hanuman.

Praying to him

Every Saturday, have a bath by adding some sesame seeds in water — On the days when you go to the temple, leave some sesame, sugar and red gram seeds in the temple only. This is said to solve all your problems in a couple of months.

Light a lamp

One should light a lamp in either mustard oil or ghee in front of Hanuman every Tuesday and Saturday at least. Those with heart troubles should read the Hanuman Chalisa for multiple times in a day.

How does Hanuman help you?

It is said that more than being a “God”, Hanuman is a friend and a guru to anyone who prays to him. It is often (wrongly) said that women should not pray to Hanuman since he was a bachelor, but this is not true.

Solving problems

It is said that apart from mental relief, praying to Hanuman also provides everyone with physical relief — if someone suffers from chronic health problems, especially those of the heart, then praying to Lord Hanuman daily will give him strength.

Depression

Not only this, it is said that if you suffer from anxiety and depression, then praying to Lord Hanuman will give you direction in life. Of course, Lord Hanuman won’t heal you completely, but will give you the strength to move on.

Love problems

It is said that if someone is in a toxic relationship or bad marriage, then praying to Lord Hanuman everyday brings immense relief to that person. He will finally be able to break the shackles of abuse and emerge strong.

Corruption

It is said that if one is corrupt, a chronic liar, fickle minded or keeps bad company, then he or she should chant the Hanuman Chalisa regularly. This will help him give up all his bad habits.

Shani Dosha

If you are affected by the Shani Dosha, then you should recite the Hanuman Chalisa everyday. Not only this, if your Sun is weak, then too you should chant the chalisa and that will solve all your troubles. Make sure to do it everyday.

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - May 24, 2017 at 7:54 am

Categories: Articles, Chalisa   Tags: ,

All God Chalisa in Hindi

List of God Chalisa

 

  1. Shree Surya Chalisa and Surya Dev aarti

  2. Shree Batuk Bhairav Chalisa in Hindi

  3. Shree Bhairav Chalisa or Shri Batuk Bhairav Chalisa in Hindi

  4. Shree Shani Chalisa-2 in Hindi

  5. Shree Shani Chalisa – 1 in Hindi

  6. Shree Shiv Chalisa in Hindi

  7. Shree Vishnu Chalisa in Hindi

  8. Shree Ram Chalisa in Hindi

  9. Shree Krishna Chalisa in Hindi

  10. Shree Gopal Chalisa and Aarti in Hindi

  11. Shree Ganesh Chalisa – Ganesh Chalisa lyrics in Hindi

  12. Shree Brahma Chalisa in Hindi

  13. Shree Gayatri Chalisa in Hindi

  14. Shree Mahalakshmi Chalisa and Ashtakam in Hindi

  15. Shree Lakshmi Chalisa in Hindi

  16. Shree Vindheshwari Chalisa in Hindi

  17. Shree Durga Chalisa in Hindi

  18. Shree Baba Gangaram Chalisa in Hindi

  19. Shree Pitar Chalisa – pitra chalisa in Hindi

  20. Shree Ramdev Chalisa in Hindi

  21. Shree Shyam Khaatu Chalisa in Hindi

  22. Shree Parashuram Chalisa in Hindi

  23. Shree Mahaveer Teerthankar Chalisa in Hindi

  24. Shree Giriraj Chalisa in Hindi

  25. Shree Sai baba Chalisa in Hindi

  26. Shree Balaji Chalisa in Hindi

  27. Shree Pretraj Chalisa in Hindi

  28. Shri Jaharveer Goga Ji Chalisa in Hindi

  29. Shree Gorakh Chalisa in Hindi

  30. Shree Ravidas Chalisa and Aarti in Hindi

  31. Shree Vishwakarma Chalisa in Hindi

  32. Shree Navagrah Chalisa in Hindi

  33. Shree Rani Sati Chalisa in Hindi

  34. Shree Lalita Chalisa in Hindi

  35. Shree Shakambhari Chalisa in Hindi

  36. Shree Sharada Chalisa in Hindi

  37. Shree Narmada Chalisa in Hindi

  38. Shree Ganga Chalisa in Hindi

  39. Shree Bagalaamukhi Chalisa in Hindi

  40. Shree Parvati Chalisa in Hindi

  41. Shree Annapurna Chalisa in Hindi

  42. Shree Santoshi Maa Chalisa

  43. Shree Vaishno Devi Chalisa in Hindi

  44. Shree Tulasi Chalisa in Hindi

  45. Shree Radha Chalisa in Hindi

  46. Shree Shitala Mata Chalisa and Aarti in Hindi

  47. Shree Mahaakaali Chalisa in Hindi

  48. Shree Kali Chalisa in Hindi

  49. Shree Saraswati Chalisa in Hindi

  50. Tamil Hanuman chalisa

  51. Hanuman chalisa in Kannada Text

  52. Hanuman chalisa in telugu text – Hanuman chalisa in telugu lyrics

  53. Hanuman Chalisa in Oriya

  54. Hanuman Chalisa in Malayalam

  55. Hanuman Chalisa in Gujarati

  56. Hanuman Chalisa in Bengali

  57. Sri Hanuman Chalisa in English Text

  58. Hanuman Chalisa in devnagari Hindi Marathi text Lyrics

  59. Sanskrit Hanuman Chalisa 2

  60. Sanskrit Hanuman Chalisa

  61. Saraswati Chalisa in Hindi

  62. Kaila Devi Chalisa in Hindi

  63. Omkar chalisa in hindi

  64. Omkar chalisa in gujarati pdf

  65. Bhagwan Mahavir Swami Chalisa

  66. Shri Shiv Chalisa in Hindi

  67. SHRI VISHNU CHALISA with English Meaning

  68. Shree Pitar Chalisa in Hindi

  69. Gayatri chalisa in Gujarati

  70. Chintpurni Chalisa in Hindi

  71. Shree Jwala Devi Maa Chalisa in Hindi

  72. Shree Chamunda Maa Chalisa in Hindi

 

Other Chalisa

  1. Sachin Chalisa in Hindi

  2. सासू चालीसा Sasoo Chalisa in Hindi

  3. UDDHAV THAKARE PACHASA INSTEAD OF CHALISA

  4. Modi chalisa in Hindi

  5. Patni Chalisa in Hindi

  6. Anna Chalisa in Hindi

  7. MACHCHHAR CHALISA in Hindi

  8. Modi chalisa full in hindi – NaMo Chalisa

  9. Narendra Modi chalisa full in hindi

 

List of All Chalisa
all god chalisa mp3 download

all chalisa in hindi

all chalisa mp3 free download

chalisa sangrah mp3 free download
all god chalisa in hindi

chalisa sangrah anuradha paudwal mp3

all chalisa in hindi pdf

all chalisa in hindi mp3 free download

 

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - April 9, 2017 at 4:32 pm

Categories: Chalisa   Tags: ,

Modi chalisa in Hindi

Modi chalisa in hindi

Modi chalisa in hindi

Modi Ashtak

Modi Ashtak

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - November 30, 2016 at 2:01 pm

Categories: Chalisa   Tags: ,

Omkar chalisa in hindi

Omkar chalisa in hindi

Om Kar Chalisa

omkar chalisa in hindi
omkar chalisa in hindi text

omkar chalisa in hindi written

omkar chalisa in gujarati text

omkar chalisa ppt download
omkar chalisa mantra in gujarati

omkar chalisa mantra lyrics

omkar chalisa lyrics in gujarati

aumkar chalisa

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - August 25, 2016 at 4:28 pm

Categories: Chalisa   Tags: ,

Omkar chalisa in gujarati pdf

omkar chalisa in gujarati pdf

omkar chalisa in gujarati pdf

om chalisa
om chalisa in gujarati

om kaar chalisa

om kar chalisa free download

om kar chalisa by pritesh
om kar chalisa mp3

omkar chalisa in gujarati pdf

omkar chalisa lyrics

omkar chalisa in hindi

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 4:24 pm

Categories: Chalisa   Tags: ,

हनुमान चालीसा की 5 चमत्कारी चौपाइयां, कर सकती हैं आपकी हर इच्छा पूरी

धार्मिक ग्रंथ

धार्मिक उपदेशों, ग्रंथों में वह ताकत है जो हमारे दुखों का निवारण करती है, इस बात में कोई संदेह नहीं है। जब भी हम परेशान होते हैं तो अपनी समस्या का हल पाने के लिए शास्त्रीय उपायों का इस्तेमाल जरूर करते हैं। इसे आप चमत्कार ही कह लीजिए, लेकिन शास्त्रों में हमारी हर समस्या का समाधान है।

https://i0.wp.com/n4.sdlcdn.com/imgs/a/p/f/Pleasantino-Wood-Carved-Hanuman-Idol-SDL017158484-1-50ab8.jpg?resize=247%2C289
हनुमान चालीसा

यदि हम निर्देशों के अनुसार उपाय करते चले जाएं, तो सफल जरूर होते हैं। इसलिए आज हम आपको हनुमान चालीसा के माध्यम से कुछ ऐसे उपाय बताएंगे जो आपके जीवन को सुखी बना देने में सक्षम सिद्ध होंगे।
भगवान हनुमान को समर्पित

भगवान हनुमान को समर्पित हनुमान चालीसा के बारे में कौन नहीं जानता, गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रची गई हनुमान चालीसा में वह चमत्कारी शक्ति है जो हमारे दुखों को हर लेती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस चमत्कार का रहस्य क्या है?
एक पौराणिक कथा

चलिए इसका जवाब हम आपको एक पौराणिक कथा के द्वारा देते हैं…. यदि आप हनुमान जी के बाल अवतार से परिचित हैं तो शायद आपने यह कहानी सुन रखी होगी कि बचपन में जब हनुमानजी को काफी भूख लगी थी तो उन्होंने आसमान में चमकते हुए सूरज को एक फल समझ लिया था।
बाल हनुमान

उनके पास तब ऐसी शक्तियां थीं जिसके द्वारा वे उड़कर सूरज को निगलने के लिए आगे बढ़े, लेकिन तभी देवराज इन्द्र ने हनुमानजी पर शस्त्र से प्रहार कर दिया जिसके कारण वे मूर्छित हो गए।
जब हनुमान हुए मूर्छित

हनुमानजी के मूर्छित होने की बात जब वायु देव को पता चली तो वे काफी नाराज हुए। लेकिन जब सभी देवताओं को पता चला कि हनुमानजी भगवान शिव के रुद्र अवतार हैं, तब सभी देवताओं ने हनुमानजी को कई शक्तियां दीं।
देवतागण ने दिया आशीर्वाद

कहते हैं कि सभी देवतागण ने जिन मंत्रों और हनुमानजी की विशेषताओं को बताते हुए उन्हें शक्ति प्रदान की थी, उन्हीं मंत्रों के सार को गोस्वामी तुलसीदास ने हनुमान चालीसा में वर्णित किया है। इसलिए हनुमान चालीसा पाठ को चमत्कारी माना गया है।
हनुमान चालीसा की शक्ति

परंतु हनुमान चालीसा में तो कोई मंत्र है ही नहीं, फिर मंत्रों के बिना भी वह चमत्कारी प्रभाव देने में सक्षम कैसे है? दरअसल हनुमान चालीसा में मंत्र ना होकर हनुमानजी की पराक्रम की विशेषताएं बताई गईं हैं। कहते हैं इन्हीं का जाप करने से व्यक्ति सुख प्राप्त करता है।
पांच चौपाइयां

चलिए आपको बताते हैं हनुमान चालीसा की उन 5 चौपाइयों के बारे में, जिनका यदि नियमित सच्चे मन से वाचन किया जाए तो यह परम फलदायी सिद्ध होती हैं।
इस दिन करें जप

हनुमान चालीसा का वाचन मंगलवार या शनिवार को करना परम शुभ होता है। ध्यान रखें हनुमान चालीसा की इन चौपाइयों को पढ़ते समय उच्चारण में कोई गलती ना हो।

पहली चौपाइ

भूत-पिशाच निकट नहीं आवे। महावीर जब नाम सुनावे।।
लाभ

इस चौपाइ का निरंतर जाप उस व्यक्ति को करना चाहिए जिसे किसी का भय सताता हो। इस चौपाइ का नित्य रोज प्रातः और सायंकाल में 108 बार जाप किया जाए तो सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है।
दूसरी चौपाइ

नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।।
लाभ

यदि कोई व्यक्ति बीमारियों से घिरा रहता है, अनेक इलाज कराने के बाद भी वह सुख नही पा रहा, तो उसे इस चौपाइ का जाप करना चाहिए। इस चौपाइ का जाप निरंतर सुबह-शाम 108 बार करना चाहिए। इसके अलावा मंगलवार को हनुमान जी की मूर्ति के सामने बैठकर पूरी हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए, इससे जल्द ही व्यक्ति रोगमुक्त हो जाता है।
तीसरी चौपाइ

अष्ट-सिद्धि नवनिधि के दाता। अस बर दीन जानकी माता।।
लाभ

यह चौपाइ व्यक्ति को समस्याओं से लड़ने की शक्ति प्रदान करती है। यदि किसी को भी जीवन में शक्तियों की प्राप्ति करनी हो, ताकि वह कठिन समय में खुद को कमजोर ना पाए तो नित्य रोज, ब्रह्म मुहूर्त में आधा घंटा इन पंक्तियों का जप करे, लाभ प्राप्त हो जाएगा।
चौथी चौपाइ

विद्यावान गुनी अति चातुर। रामकाज करिबे को आतुर।।
लाभ

यदि किसी व्यक्ति को विद्या और धन चाहिए तो इन पंक्तियों के जप से हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है। प्रतिदिन 108 बार ध्यानपूर्वक जप करने से व्यक्ति के धन सम्बंधित दुःख दूर हो जाते हैं।
पांचवीं चौपाइ

भीम रूप धरि असुर संहारे। रामचंद्रजी के काज संवारे।।
लाभ

जीवन में ऐसा कई बार होता है कि तमाम कोशिशों के बावजूद कार्य में विघ्न प्रकट होते हैं। यदि आपके साथ भी कुछ ऐसा हो रहा है तो उपरोक्त दी गई चौपाइ का कम से कम 108 बार जप करें, लाभ होगा।

हनुमान चालीसा का महत्व

किंतु हनुमान चालीसा का महत्व केवल इन पांच चौपाइयों तक सीमित नहीं है। पूर्ण हनुमान चालीसा का भी अपना एक महत्व एवं इस पाठ को पढ़ने का लाभ है, जिससे आम लोग अनजान हैं।
हनुमान चालीसा का पाठ

बहुत कम लोग जानते हैं कि हिन्दू धर्म में हनुमान जी की आराधना हेतु ‘हनुमान चालीसा’ का पाठ सर्वमान्य साधन है। इसका पाठ सनातन जगत में जितना प्रचलित है, उतना किसी और वंदना या पूजन आदि में नहीं दिखाई देता।
फलदायी

‘श्री हनुमान चालीसा’ के रचनाकार गोस्वामी तुलसीदास जी माने जाते हैं। इसीलिए ‘रामचरितमानस’ की भाँति यह हनुमान गुणगाथा फलदायी मानी गई है।
भक्तों का अनुभव

यह बात केवल कहने योग्य नहीं है, अपित्य भक्तों का अनुभव है कि हनुमान चालीसा पढ़ने से परेशानियों से लड़ने की शक्ति प्राप्त होती है।
वंदना

तो यदि आप भी दिल से, पवनपुत्र हनुमान जी की भावपूर्ण वंदना करते हैं, तो आपको ना केवल बजरंग बलि का अपितु साथ ही श्रीराम का भी आशीर्वाद प्राप्त होगा।

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - April 7, 2016 at 11:23 am

Categories: Chalisa   Tags:

Bhagwan Mahavir Swami Chalisa

श्री महावीर चालीसा
‪‎Bhagwan_Mahavir_Swami‬
दोहाः-

सिद्ध समूह नमौं सदा, अरु सुमरुं अरहन्त |
निर आकुल निर्वाच्छ हो, गए लोक के अन्त |1|
मंगल मय मंगल करन, वर्धमान महावीर |
तुम चिंतत चिंता मिटे, हरो सकल भव पीर |2|
जय महावीर दया के सागर, जय श्री सन्मति ज्ञान उजागर |
शांत छवि मूरत अति प्यारी, वेष दिगम्बर के तुम धारी |3|
कोटि भानु से अति छवि छाजे, देखत तिमिर पाप सब भाजे |
महाबली अरि कर्म विदारे, जोधा मोह सुभट से मारे |4|
काम क्रोध तजि छोड़ी माया, क्षण में मान कषाय भगाया |
रागी नहीं, नहीं तू द्वेषी, वीतराग तू हित उपदेशी |5|
प्रभु तुम नाम जगत में सांचा, सुमिरत भागत भूत पिशाचा |
राक्षस यक्ष डाकिनी भागे, तुम चिंतत भय कोई न लागे |6|
महा शूल को जो तन धारे, होवे रोग असाध्य निवारे |
व्याल कराल होय फणधारी, विष को उगल क्रोध कर भारी |7|
महाकाल सम करै डसन्ता, निर्विष करो आप भगवन्ता |
महामत्त मद गज को झारे, भगे तुरत जब तुझे पुकारे |8|
फाड़ दाढ़ सिंहादिक आवे, ताको हे प्रभु तूही भगावे |
होकर प्रबल अग्नि जो जारे, तुम प्रताप शीतलता धारे |9|
शस्त्र धार अरि युद्ध लड़न्ता, तुम प्रसाद हो विजय तुरन्ता |
पवन प्रचण्ड चले झकझोरा, प्रभु तुम हरो होय भय चोरा |10|
झार खण्ड गिरि अटवी मांही, तुम बिनशरण तहां कोउ नांही |
वज्रपात करि घन गरजावे, मूसलधार होय तड़काव |11|
होय अपुत्र दरिद्र संताना, सुमिरत होत कुबेर समाना |
बन्दीगृह में बँधी जंजीरा, कठ सुई अनि में सकल शरीरा |12|
राजदण्ड करि शूल धरावै, ताहि सिंहासन तू ही बिठावे |
न्यायाधीश राजदरबारी, विजय करे होय कृपा तुम्हारी |13|
जहर हलाहल दुष्ट पियन्ता, अमृत सम प्रभु करो तुरन्ता |
चढ़े जहर, जीवादि डसन्ता, निर्विष क्षण में आप करन्ता |14|
एक सहस वसु तुमरे नामा, जन्म लियो कुण्डलपुर धामा |
सिद्धारथ नृप सुत कहलाये, त्रिशला मात उदर प्रगटाये |15|
तुम जनमत भयो लोक अशोका, अनहद शब्द भयो तिहुंलोका |
इन्द्र ने नेत्र सहस्र करि देखा, गिरि सुमेर कियो अभिषेका |16|
कामादिक तृष्णा संसारी, तज तुम भए बाल ब्रह्मचारी |
अथिर जान जग अनित बिसारी, बालपने प्रभु दीक्षा धारी |17|
शांत भाव धर कर्म विनाशे, तुरतहि केवल ज्ञान प्रकाशे |
जड़-चेतन त्रय जग के सारे, हस्त रेखवत् सम तू निहारे |18|
लोक-अलोक द्रव्य षट जाना, द्वादशांग का रहस्य बखाना |
पशु यज्ञों का मिटा कलेशा, दया धर्म देकर उपदेशा |19|
अनेकान्त अपरिग्रह द्वारा, सर्वप्राणि समभाव प्रचारा |
पंचम काल विषै जिनराई, चांदनपुर प्रभुता प्रगटाई |20|
क्षण में तोपनि बाढ़ि-हटाई, भक्तन के तुम सदा सहाई |
मुरख नर नहिं अक्षर ज्ञाता, सुमिरत पंडित होय विख्याता|
सोरठाः-

करे पाठ चालीस दिन नित चालीसहिं बार |
खेवै धूप सुगन्ध पढ़, श्रीमहावीर अगार ||
जनम दरिद्री होय, अरु जिसके नहिं सन्तान |
नाम वंश जग में चले, होय कुबेर समान ||
पूरनमल रचकर चालीसा, हे प्रभु तोहि नवावत शीशा |

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - March 15, 2016 at 8:45 am

Categories: Chalisa   Tags: ,

12 jyotirlinga darshan

jyotirlinga
jyotirlinga list

12 jyotirlinga map

jyotirlinga in hindi

jyotirlinga photos
jyotirlinga yatra

vaidyanath jyotirlinga

mallikarjun jyotirlinga

jyotirlinga darshan

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - March 7, 2016 at 10:51 am

Categories: Chalisa   Tags:

सासू चालीसा Sasoo Chalisa in Hindi

जय जय जय सासू महरानी हरदम बोलो मीठी वाणी
तुम्हरी हरदम करवय सेवा फल पकवान खिलाउब मेवा

हम पर ज्यादा करो न रोष हम तुमका देवय न दोष
तुम्हरी बेटी जैसी लागी तुम्हारी सेवा म हम जागी

रूखा-सूखा मिल के खाबय करय सिकायत कहू न जावय
पति देव खुश रहे हमेशा उनके तन न रहे क्लेशा

इतना वादा कय लिया माई फिर केथऊ कय चिंता नाही
जीवन अपना चम-चम चमके फूल हमरे आंगन म गमके

जैसी करनी वैसी भरनी तुम जानत हो मेरी जननी
संस्कार कय रूप अनोखा कभौ न होय हमसे धोखा

हसी खुशी जिनगी बीत जाये सुख दुख तो हरदम आये
दोहाः रोग दोष न लगे ई तन मा.जाता रहे कलेश

सासू मॉ की सेवा जो करे खुशी रहे महेश..
बोलो सासू माता की जै,,

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - November 21, 2015 at 7:14 am

Categories: Chalisa   Tags:

हर दिन पढ़ें हनुमान चालीसा, पढ़ने के यह हैं सात फायदे

ऐसी मान्यता है कि, कलियुग में एक मात्र हनुमान जी ही जीवित देवता हैं। यह अपने भक्तों और आराधकों पर सदैव कृपालु रहते हैं और उनकी हर इच्छा पूरी करते हैं।

हनुमान जी की कृपा से ही तुलसीदास जी को भगवान राम के दर्शन हुए थे। शिवाजी महाराज के गुरू समर्थ रामदास के बारे में भी कहा जाता है कि उन्हें हनुमान जी ने दर्शन दिए थे।

हनुमान जी के बारे में यह भी कहा जाता है कि जहां कहीं भी रामकथा होती है हनुमान जी वहां किसी न किसी रूप में जरूर मौजूद रहते हैं।

हनुमान जी की महिमा और भक्तहितकारी स्वभाव को देखते हुए तुलसीदास जी ने हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए हनुमान चालीसा लिखा है। इस चालीसा का नियमित पाठ बहुत ही सरल और आसान है, लेकिन इसके लाभ हैं चमत्कारी।

हनुमान चालीसा में कहा गया है कि हनुमान जी अष्टसिद्घि और नवनिधि के दाता कहा गया। जो व्यक्ति नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करता है। उसकी हर मनोकामना हनुमान जी पूरी करते हैं चाहे वह धन संबंधी इच्छा ही क्यों न हो।

जब कभी भी आपको आर्थिक संकट का सामना करना पड़े मन में हनुमान जी का ध्यान करके हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू कर दीजिए।

कुछ ही हफ्तों में आपको समस्या का समाधान मिल जाएगा और आर्थिक चिंताएं दूर हो जाएगी। इस बात का ध्यान रखें कि पाठ किसी दिन छोड़ें नहीं। अगर यह क्रम मंगलवार से शुरू करें तो बेहतर रहेगा।

हनुमान चालीसा का एक दोहा है ‘भूत पिशाच निकट नहीं आए, महावीर जब नाम सुनावे। इस दोहे से बताया गया है कि जो व्यक्ति नियमित हनुमान चालीसा का पाठ करता है उसके आस-पास भूत-पिशाच और दूसरी नकारात्मक शक्तियां नहीं आती हैं।

हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने वाले व्यक्ति का मनोबल बढ़ जाता है और उसे किसी भी तरह का भय नहीं रहता है।

अगर किसी को कोई अनजाना भय डरा रहा हो तो उसे हर रात सोने से पहले हाथ पैर धोकर पवित्र मन से हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू कर देना चाहिए।

अगर आप सोने के लिए बिस्तर पर जाते हैं लेकिन मन बेचैन रहता है, ठीक से नींद नहीं आती है तो आप नियमित हनुमान चालीसा पाठ करना शुरू कर दीजिए।

नींद अच्छी तरह नहीं आने का एक बड़ा कारण मानसिक अशांति है। हनुमान चालीसा के पाठ से मानसिक शांति मिलती है और मन में चल रही उधेड़ बुन से मुक्ति मिलती है जिससे व्यक्ति को अच्छी नींद आती है और जीवन में उन्नति का मौका मिलता है।

हनुमान जी परम पराक्रमी और महावीर हैं इस बात का उल्लेख रामचरित मानस से लेकर हनुमान चालीसा तक में किया गया है।

इनके ध्यान से पुरूष बलवान और वीर्यवान होता है। जो लोग अक्सर बीमार रहते हैं या काफी उपचार के बाद भी जिनका रोग दूर नहीं होता उन्हें नियमित हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए।

हनुमान चालीसा में लिखा भी गया है” नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरन्तर हनुमत बीरा।।”

आपने देखा होगा कि मंगलवार के दिन छात्र बड़ी संख्या में हनुमान जी के मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं। इसका कारण यह है कि हनुमान जी की जिनपर कृपा होती है वह बुद्घिमान, गुणी और चातुर यानी अक्लमंद हो जाते हैं।

हनुमान जी की कृपा पाने के लिए छात्रों को नियमित हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। छात्र जीवन में चालीसा का पाठ करने से स्मरण शक्ति बढ़ती है और शिक्षा के क्षेत्र में कामयाबी मिलती है।

इसका कारण यह है कि हनुमान जी स्वयं हैं ‘विद्यावान गुनी अति चातुर। राम काज करिबे को आतुर।।’ जो इनकी भक्ति सहित हनुमान चालीसा का पाठ करता है उनमें भी हनुमान जी यह गुण भर देते हैं।

मनुष्य जीवन का परम लक्ष्य माना गया है मुक्ति यानी शरीर त्याग के बाद परमधाम में स्थान। हनुमान चालीसा में बताया गया है ‘अन्त काल रघुबर पुर जाई। जहाँ जन्म हरि–भक्त कहाई।। और देवता चित्त न धरई। हनुमत् सेई सर्व सुख करई।।

यानी जो व्यक्ति हनुमान जी का ध्यान करता है उनकी पूजा और हनुमान चालीसा का पाठ नियमित करता है उसके परम धाम जाने का मार्ग सरल हो जाता है।

।। दोहा।।
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन–कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

।। चौपाई।।
जय हनुमान ज्ञान गुन सागर। जय कपीस तिहुँ लोक उजागर।
राम दूत अतुलित बल धामा। अंजनि पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी। कुमति निवार सुमति के संगी।
कंचन बरन बिराज सुबेसा। कानन कुण्डल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै। काँधे मुँज जनेऊ साजै।।
शंकर सुवन केसरी नन्दन। तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर। राम काज करिबे को आतुर।।
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया। राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा। विकट रूप धरि लंक जरावा।।
भीम रूप धरि असुर सँहारे। रामचन्द्र के काज सँवारे।।

लाय संजीवन लखन जियाये। श्री रघुबीर हरषि उर लाये।
रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई। तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं। अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।
सनकादिक ब्रादि मुनीसा। नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते। कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते।।
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा। राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मन्त्र विभीषन माना। लंकेश्वर भए सब जग जाना।।
जुग सहस्त्र जोजन पर भानू। लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं। जलधि लाँघि गये अचरज नाहीं।।
दुर्गम काज जगत के जेते। सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे। होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।
सब सुख लहै तुम्हरी सरना। तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै। तीनों लोक हाँक तें काँपै।।
भूत पिसाच निकट नहिं आवै। महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरन्तर हनुमत बीरा।।
संकट तें हनुमान छुड़ावै। मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा। तिन के काज सकल तुम साजा।।
और मनोरथ जो कोई लावै। सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।। है परसिद्ध जगत उजियारा।।
साधु सन्त के तुम रखवारे। असुर निकंदन राम दुलारे।।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता। अस बर दीन जानकी माता।।
राम रसायन तुम्हरे पासा। सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै। जनम जनम के दु:ख बिसरावै।।
अन्त काल रघुबर पुर जाई। जहाँ जन्म हरि–भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई। हनुमत् सेई सर्व सुख करई।।
संकट कटै मिटे सब पीरा। जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जय जय जय हनुमान गौसाईं। वृपा करहु गुरुदेव की नाईं।
जो त बार पाठ कर कोई। छुटहि बंदि महासुख होई।

जो यह पढ़ै हनुमान् चालीसा। होय सिद्धि साखी गौरीसा।।
तुलसीदास सदा हरि चेरा। कीजै नाथ हृदय महँ डेरा।।

।।। दोहा।।
पवनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

 

 

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 7:11 am

Categories: Chalisa   Tags: , , , , ,

Next Page »

© 2010 Complete Hindu Gods and Godesses Chalisa, Mantras, Stotras Collection