समर सीजन में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए रोजाना करें घी का सेवन

डॉक्टर कोरोना काल में इम्यून सिस्टम मजबूत करने की सलाह देते हैं।

घी भारतीय व्यंजन का अहम हिस्सा है। इसका इस्तेमाल जायके का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में घी को दवा बताया गया है। डॉक्टर भी सर्दी हो या गर्मी सभी मौसम में घी खाने की सलाह देते हैं। शुद्ध घी में विटामिन ए, के, इ, ओमेगा-3 और ओमेगा-9 फैटी एसिड पाए जाते हैं, जो कई बीमारियों में लाभदायक होते हैं। खासकर बदलते मौसम में होने वाले सर्दी-खांसी और फ्लू के लिए यह रामबाण दवा है। साथ ही इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। अगर आप घी के फायदे से वाकिफ नहीं है, तो आइए जानते हैं-

कोशिका के विकास में सहायक

आधुनिक समय में लोग वजन बढ़ने के डर से घी का सेवन नहीं करते हैं। हालांकि, घी में हेल्दी फैट होता है। इससे शरीर में कोशिका का विकास होता है। साथ ही यह शरीर में मौजद पोषक तत्वों का अवशोषण कर महत्वपूर्ण हार्मोन को उत्सर्जित करता है। इसके लिए रोजाना दाल/चावल/रोटी में एक चम्मच घी मिलाकर रोजाना सेवन करें।

कब्ज दूर करता है

ncbi.nlm.nih.gov की एक शोध के अनुसार, घी में ब्यूटीरिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो कब्ज को दूर करने में कारगर साबित हो सकता है। साथ ही ब्यूटीरिक एसिड मेटाबॉलिज्म यानी चयापचय को सही करता है, जिससे अमाशय सुचारू रूप से काम करने लगता है। इसके अलावा, घी के सेवन से ब्लोटिंग, पेट दर्द में भी राहत मिलता है।

इम्यून सिस्टम मजबूत होता है

डॉक्टर कोरोना काल में इम्यून सिस्टम मजबूत करने की सलाह देते हैं। इसके अलावा, बदलते मौसम में बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है। इस मौसम में आप घी को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। घी के सेवन से संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। इसमें पाया जाने वाला ब्यूटीरिक एसिड, विटामिन-ए और सी इम्यून सिस्टम मजबूत करने में अहम भूमिका निभाता है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।