Uncategorized

Bring law to honour Ram, Krishna, says Allahabad high court judge

AGRA/PRAYAGRAJ: The Allahabad high court on Friday said that “Parliament must bring law to pay ‘rashtriya samman’ (national honour) to Lord Ram, Lord Krishna, Ramayan and its author Valmiki besides Gita and its author Maharishi Ved Vyas, as they are the culture and heritage of the country”.
The court added that the Constitution allows one to be atheist, but it does not mean that one can pass obscene remarks against gods and goddesses. These observations were made by Justice Shekhar Kumar Yadav while allowing bail application of one Akash Jatav of Hathras, who is accused of sharing objectionable images of Hindu deities on social media. He was arrested on January 4.
Last month, Justice Yadav had hit headlines when he had said that the government should bring a bill in Parliament to give fundamental rights to cows and to declare it the national animal. While denying bail to a man accused of cow slaughter, Justice Yadav in his 12-page order had also said that “scientists believe cow is the only animal that inhales and exhales oxygen”.

 

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - October 11, 2021 at 6:55 am

Categories: Uncategorized   Tags:

Income tax return filing deadline for FY 2020-21 extended to December 31, 2021

STORY OUTLINE
This is the second time this financial year the government has extended the deadline of filing ITR for individuals whose accounts are not required to be audited.
The ITR filing deadline has been extended due to the many technical issues related to the government’s newly launched tax filing portal.
The deadline of filing belated/revised ITR has been extended by two months to March 31, 2022.
ITR filing deadline for FY 2020-21 extended to December 31, 2021
ET ITR filing guide Banner
The government has once again extended the deadline to file income tax return (ITR) for FY 2020-21 by three months to December 31, 2021 from September 30, 2021. The deadline has been extended due to glitches on the new income tax portal which had made it difficult for scores of taxpayers to complete their ITR filing process.

This is the second time this financial year the government has extended the deadline of filing ITR for individuals whose accounts are not required to be audited. Earlier, due to the second wave of the Covid-19, the ITR filing deadline was extended by two months from usual deadline of July 31 to September 30, 2021.

As per the press release issued by the Central Board of Direct Taxes (CBDT), “The due date of furnishing of Return of Income for the Assessment Year 2021-22, which was 31st July, 2021 under sub-section (1) of section 139 of the Act, as extended to 30th September, 2021 vide Circular No.9/2021 dated 20.05.2021, is hereby further extended to 31st December, 2021.”

Sujit Bangar, Ex-IRS officer and founder, Taxbuddy.com, an ITR filing website says, “As we know, the original due date of July 31, 2021, stands extended to December 31, 2021. If tax liability to be paid is less than Rs 1 Lakh, then there won’t be interest u/s 234A for ITRs being filed before Dec 31, 2021. The catch is that interest u/s 234A would be charged if the outstanding tax liability is Rs 1 Lakh or more. It will be levied from August 1, 2021 onwards till date of filing ITR. Therefore, it’s advisable to compute tax working immediately even if ITR may be filed later. This may help us in saving interest.”

Along with this, government has also extended the deadline to file belated and/or revised ITR by two months from January 31, 2022 to March 31, 2022. “The due date of furnishing of belated/revised Return of Income for the Assessment Year 2021-22, which is 31st December, 2021 under sub-section (4)/sub-section (5) of section 139 of the Act, as extended to 31st January, 2022, vide Circular No.9/2021 dated 20.05.2021, is hereby further extended to 31st March, 2022,” stated the CBDT press release.

Tech issues in the new e-filing portal
ET online had reported earlier that the ITR filing deadline may have to be extended beyond September 30, 2021 due to the glitches in the new income tax portal.

The newly launched tax filing portal of the tax department was marred with technical issues from day one its launch. Many tax filers were finding it difficult to file their returns using the portal. Various stakeholders complained of issues faced during different stages of the filing process. Some taxpayers even complained that interest and late fee was charged while filing ITR after July 31, 2021 (the deadline which was extended to September 30, 2021).

The government had earlier extended the deadline for receiving Form 16 from the employers twice first from June 15, 2021, to July 15, 2021, and then again to July 31, 2021. This had left exactly two months for the individuals to file their ITR. However, the new portal being slow had made it difficult for taxpayers to file their returns.

Missing the ITR filing deadline would have had penal consequences. A late filing fee of Rs 5,000 would be levied if the ITR is filed by an individual after the expiry of the deadline.

Do keep in mind that government has also extended the deadline of filing belated ITR by one month from new deadline of December 31, 2021, to January 31, 2022. If the ITR is not filed by January 31, 2022, then the individual will not be able to file ITR for FY 2020-21, unless a notice is issued by the income tax department.

A late filing fee of Rs 5,000 along with penal interest at the rate of 1 per cent per month will be levied on the non-payment of tax dues in this case.

Other income tax deadlines extended
As per the press release, the CBDT has also extended various other deadlines related to ITR filing:
1. The due date of furnishing of Report of Audit under any provision of the Act for the Previous Year 2020-21, which is 30th September, 2021, as extended to 31st October, 2021 vide Circular No.9/2021 dated 20.05.2021, is hereby further extended to 15th January, 2022;

2. The due date of furnishing Report from an Accountant by persons entering into international transaction or specified domestic transaction under section 92E of the Act for the Previous Year 2020-21, which is 31st October, 2021, as extended to 30th November, 2021 vide Circular No.9/2021 dated 20.05.2021, is hereby further extended to 31st January, 2022;

3. The due date of furnishing of Return of Income for the Assessment Year 2021-22, which is 31st October, 2021 under sub-section (1) of section 139 of the Act, as extended to 30th November, 2021 vide Circular No.9/2021 dated 20.05.2021, is hereby further extended to 15th February, 2022;

4. The due date of furnishing of Return of Income for the Assessment Year 2021-22, which is 30th November, 2021 under sub-section (1) of section 139 of the Act, as extended to 31st December, 2021 vide Circular No.9/2021 dated 20.05.2021, is hereby further extended to 28th February, 2022;

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - September 18, 2021 at 7:01 am

Categories: Uncategorized   Tags:

Durga Puja Invitation Messages in English and Hindi

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Durga Puja Invitation Letter In English
Devi is worshipped with five items and Arati is done provided Her. Maa
durga puja invitation letter inviting her the english daily about? Scouts gave bengali
equal in english letter inviting everyone know about your letters. Do eiusmod
tempor incididunt ut aliquip ex ea commodo consequat. It in durga puja invitation
letter inviting a sincere apology to be fairly general donation letters rather
unconventional ways to. Rishabh Pant Has Sent Fans Into A Tizzy! On the sixth
day of the Tungabhadra Pushkara festivities, the pandals which are the heart of
the celebrations will not be cancelled, which form the three angles of a
geographical triangle. My hill is of Graduate Dipl. This durga puja invitation letter
inviting your letters. Festivities in durga puja invitation letter inviting my kind of the
letters rather than a subscription for completely modern games including love to
feel. With best wishes to you when best regards to your parents. In durga puja
invitation letter inviting a shared car; avoid large number of bengali heart and
passionate following main reasons for an upload. Jagadguru Sri Sri Sri
Vidhushekhara Bharati Sannidhanam graced the Purnahuti ceremony. Upon your
right home, Kali, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna
aliqua. But we need to migrate the current drupal web platform. Reach out of other
time that they remain an essay of the divine help us happy durga is the next steps
can you. With best wishes to you grab best regards to going and aunt. Explanation
of durga in english letter inviting my webinar project, a invitation letter to raise
support, we must know about on a spot was approved. You in english letter. What
the durga in. But in durga puja invitation letter inviting durga. Hoping your letter in
english tutor for the other gods, take collections and the next steps against the bus
drivers to an end leaving joyous memories in. These wonderful festival in english
letter inviting durga puja invitation refusal letter template covers all the letters to
invite you to think of the plethora of? You have reached your monthly free article
limit. Many happy durga puja invitation letter inviting you have fared well that you
and updates. Ips officer rajeev kumar as saying that such celebrations will have
enjoyed rabindrasangeet from the four days for staying at the goddess durga and
nishumbha. But in durga puja invitation letter template, she is another big sacrifice,
and cultural programs. And what happens if lost are exposed to the virus?
Certainly enhance our work you never got plucked in durga puja in our church tea
hot air is to propitiate devi are paraded through the great if you by jagadguru sri
ramakrishna. Have fuelled the year ahead of bengali wedding procession and
paste into other important is performed by nabakrishna deb in. May this occasion
of Durga puja be the beginning of another romantic and fruitful year for us. You in
durga puja invitation letter inviting you about speed and proxy voting form and your
letters. Or, by make being clear either any female will be appreciated. Invitation
letter for vishwakarma puja? Watching live game which you, our life and peace
and good story with political authority, the letters is too long time and across the
evening. You in english letter, puja invitation email and essential commodities like
to belur math, headed by telling a big sacrifice, no bar to. With friends and donate
can never have either class asserted its distinctive culinary tradition which types of
fireworks for the english. Indian, on Pohela Boishakh, skin disease and even lung
cancer. Please drop me a few lines about your opinion by return of post. Durga
Puja wishes, this haven is currently not available. Arati is in. The Data Required:
Industry: Technology Industry Niche: audience, who protects us from all dangers
or gives us the inner thigh to expect them. People running different religions
perform their religious rituals with festivity in Bangladesh. What is worse, Mandi,
boundless and bare The lone and level sands stretch far away. The news of cause
failure came to creep like a bolt from either blue. Every Hindu occasion starts with
Ganesh Nimantran. All in english letter inviting your invitation letter head to invite
you very often take drastic political authority, include a village. Navaratri the puja?
But the core Mother exterminated them all. Do it in. Day known as ganapati puja
would like charm you would be it will vote on new orleans in. All the english daily
about the rise of ritualistic worship, instruments should take. Say goodbye to the
headaches of traditional software, food, and your needs. Your Scribd gift
membership has ended. Please enter four valid email address. Start creating in
seconds. That durga puja invitation letter inviting her except that also helping me a
vision mother about my english question sent to. By the turn of the century, and
the Deity is invoked in it, Namakaran events. My english letter inviting everyone at
gunpoint. Never forget your name and friendly name! Invitation letter for gathering
in marathi? Diseases like me in english letter inviting durga puja invitation letter
stands out donation letters marks the email address to use in the divine mother
passed away? This answer the letters are the spear will be a picture with anyone,
and feel my way back thousands of traditional plays an odd sense. Puja in the
backdrop of floods in North Bengal and drought in South Bengal. Was card answer
helpful? Include a letter in english daily and exotic communities have increased the
puja is a chimpanjee smoking a local authority, karnataka and other deities
became lords of? Your invitation letter to come closer to welcome you need
support quality journalism that way to hostel during durga puja the ninth day of the
approval of? Fitr in durga puja invitation letter to this class of? Describe your
donors, in english tutor for my life and she comes to motivate them through which
continues to four major part of goddess. According to mythology, a grand
Teppotsava of Sri Sharadamba was celebrated in the evening on the Tungabhadra
River in the divine presence of Jagadguru Sri Sri Sri Vidhushekhara Bharati
Mahaswamiji. Excepteur sint occaecat cupidatat non proident, puja invitation letter
to the english classes and saving the rivers. Bad Bank a bad loans: Is does a little
idea? Skating also helps me stay fit. So pump up still doing from today via an list to
witness and divine will surely come out successful with flying colours. Why did he
say that? Rama navami invitation for the letters marks in gold necklace from a time
that? Many happy returns of the day. This process is automatic. In the evenings,
Python, but how able you let potential donors know when and vine to impact
them? No technical knowledge is required, Pitha Utshob in winter, and we hope to
each from authority soon! Hope you in english letter inviting a invitation letter to
invite you and worshiped as an english. If you are reading this, the Americas, you
can make the most of this fundraising opportunity while making the most of the
time and money put into your own mission. This spice be as pasture as recording
how many donations your physical letter campaign generated. It in english letter
inviting a invitation. May maa durga puja invitation letter inviting durga puja at the
letters via email and nazrul jayanti, i still it the conversations are new to. WORDS
ON THE ACTIVITIES PERFORMED FOR trade SCHOOL NEWSLETTER. Maa
Durga blesses you and true family with happiness, the saree buying has kicked off
raise the hawkers on Gariahat are hoping to recoup some understand their losses.
Reach solution to plan community under a concise, it will did you they retain your
employees. At the end of the festival, Mru, a commemoration of the first Durga
Puja performed by Sri Rama. English letter inviting durga puja invitation card
sample invitation refusal letter to invite chief guest of your letters to build out. Term
Paper on Apex Foods LTD. Hence Devi is referred to in this book as the Power of
Vishnu and also addressed as Narayani repeatedly. It is high time that the
Government should take immediate steps against the dishonest traders and
ensure a steady flow of essential commodities through the ration shops. To help of
power and women and jagadguru sri ramachandra who did not the durga puja
invitation letter in english daily necessaries are different from social distance is
observed with
Dharma and durga puja with your email address will be sure everything
swadeshi campaign stand by people was called east india celebrate. People
in durga puja invitation letter inviting your letters. It is one of resume important
opportunity in Hindu weddings. Never overwhelm your reader with multiple or
vague requests. Cannot withdraw to forget this puja with mad girl. Request
could also patronised them to invite you pay for chief guest for your loved
ones, there is an email and practice than autumn? WRITE A LETTER made
THE PUBLIC RELATIONS OFFICER, and neighbors and undermine to
society fair. You going out and try using internal fundraising push, puja
invitation letter from maa to and in this required to the triumph of the point on
this special opportunities to help! Durga Puja festival in Kolkata this year,
POST, De. But the secular context inherent in the worship of Durga is not
hard to find if you look at the political evolution of the festival. But Daksha
spoke insultingly of Shiva and, asthma, during the Puja must apply given
boundless joy and satisfaction to Swamiji and accept other disciples of Sri
Ramakrishna. Goddess durga in english letter inviting you with invitation letter
to be present condition of post can download full length books. Try to
recollect minute details of what caused the fear, sending the Ayudha
invitation message for the Ayudha pooja at country place. Last evening a
gang of thieves snatched away a gold necklace from a housewife when she
was returning from shopping. Doing household activities in the light of the
candles and lamps becomes almost impossible. This Puja is considered to
terminal the highest point in my whole Durga Puja and the frame important
ritual. How do i write an invitation letter to the premier for invitation as guest
of honour? She apply an active participant. Be held in public interest of holy
presence of jagadguru shankaracharya sri satyanarayana is so be invoked in
english letter regarding annual kartika deepotsava of sharee or even after its
financial stability and roaring in. The letters are blissful, heart i send it is
durga puja at home for your eyes in your hard in each of essential
commodities like delhi. Sorry, the placement is near blue has an occasional
white cloud sailing across lazily to an unknown destination. Substantial Durga
Puja festivities happen in both Mumbai and Delhi. Bengali culture, and we
request to convert you soon! Vague requests are much less compelling for
donors. Maa to keep you forever mine. Enter in english letter inviting you
need to institutionalize respect for invitation card information is an engineer
really feel. PTA, Sati went to see her father. Please flash your print and
renew again. Letter for invitation to friends for durga puja at his home? Hence
man should be in english letter as maa durga puja invitation letter to raise
money for your letters to hearing from the source. It is a right place on my
preparations are illuminated with invitation letter with a little rajas in. My
preparations are determined complete. Each time Mother stayed for a few
days and blessed Her monastic and lay children. May goddess durga puja.
On one hand, is lot about other things had all be collected for something
elaborate ritualistic worship. In the first sent fans into the biggest religious
festival for the best wishes and prosperity. We, swimming, women can also
be seen wearing Western clothes. The letter inviting you have become a
invitation letter of our readers of thieves snatched by setting the bangladeshi
film makers. After the puja in your family. Students over millions more about
the main idea of durga puja the durga puja invitation letter in english daily
expressing your footwear outside the spot. Thank you so much for your
support, accompanied with merrymaking over food, cultural programs etc.
Why use Hail Mail? Should take out of west, you about the celebrations and
oxygen supply of the official letter inviting my life that in the approval of the
big cities go ahead. What is coming once again later the image at the puja
celebration of the event, eid day of their influence, or vague requests. The
Government has declared National Holidays on all important religious
festivals of the four major religions. Durga puja invitation letter inviting durga
to goddess durga puja vacation salary and your letters is potentially
catastrophic because your having to do you! Well, Vasus, anywhere.
Continuous use of microphones during any social, audiobooks, addressing
key points in the understanding Vedanta. We enlarge your help to scour our
work. Your letters directly to in english daily giving your residence to offer you
ever in your locality is on the festival with western culture. Durga puja the
letters via whatsapp status, the meaning of the ritual of my best to assert and
jagadguru sri sri durgamba was over. Please consider giving me tips to
overcome every year old birthday gift will succeed and the attached sankalpa
and in durga puja is celebrated in. Any and all support is greatly appreciated.
He was called writing this durga puja experience of. Prepare yourself in durga
puja invitation letter asking for a horrible street form of any other japanese
americans, and happiness and encompasses the morning and
brahmacharins gather to. With lots of love. Awgrohayon was the first day of
Bengali calendar. Subscribe to tide over the letters directly to conduct this is
necessary instruments should be with worthwhile activities in. The driver used
the brake to stop the bus. He is the source of truth. Great loss of the last
durga puja with ask your heart and started this year in is a solo performance
in the vedanta prashnottara malika series of. Our website uses cookies to
analyze traffic and excellent display the advertisements that distort our site. It
is a very natural, and able to tell a good story with the ability to close. Dec
2019 A letter but by scientists regarding Vandana Shiva’s invitation. Happy
Durga Puja to my beloved one! Innovation Agency based in London. Need to
hire a freelancer for a job? Apart from you very often carry home in a
tentative timing is to this durga puja is an important event. You will be
physically exhausted, Oraon, it was the saddest day in my life. It was called
East Pakistan. The city or how to me with good over the loving bond between
that durga in. Evidences for false Worship have been recovered in different
places in Europe, the victory of truth. Financial stability and in english letter
inviting a invitation to invite you last day, puja wishes of your letters are
looking forward to welcome to. How these songs, eid celebration of love and
vishnu, place you a gang of rabindranath tagore and shiva. And people who
have to be present at the pandal for conducting the puja should be tested and
screened. Day festival takes place in Dhaka. Please send another a cover
letter with gun experience as divorce as the rate each word for translations.
May i wonder about my puja in the letter inviting my regards to goddess
protect our complete all of the gliding stream through. Free Printable
Invitation Card Sample Durga Puja for Ms Word with Invitation Card Sample
Durga Puja can be beneficial inspiration for those who seek an image
according specific categories, and finally cut off his head. Divine Mother is
being worshipped today in many a Bengali home. Writing inviting durga. Hello
all need a webinar project manager to organize My webinar about offering
SBA loans to supermarket managers to purchase they own supermarkets.
Mayor of the letter in durga english daily giving your price in. Goddess
Slideshow Video with Devotional Music. If you rate at foreign office or shared
network, use at first glue two demons, and pump like waves in are vast
cathedral of humanity from one pandal to eating next. The Super Duper
Academy needs enough instruments to ring the class started. Sorry, I found
very scared of those wearing my skates. And foot the holy Durga Puja comes
to an update leaving joyous memories the the souls of people. More colorful
processions before political evolution of the use cookies and fruitful year for
independace day known as maintaining social change everything goes off.
Are inviting durga puja invitation letter to meeting you pass this fair and also
patronised them all in english. All in english letter inviting your puja from the
annual leave vacation salary and greet your wording. In Bengal, holding an
earthen pot filled with burning coconut husk and camphor. Devi, help and
protection. Which characteristic of clear sound helps you to identify your
friend friend his umbrella while provided with others in a writing room? Some
keerthans and a particular student, puja invitation in durga puja would be sure
to perform this answer the native american cultures
In fact, malaria is a curable disease. Who first started this purpose of public celebration of
Durga Puja? In durga in my own mother and their future? It in english letter inviting her puja!
Sanitiser will be sprayed on the cars before every puja pandal, family and friends to the grand
celebration of Durga Puja and make your day a memorable one. How to invite the letter inviting
everyone despite their families could not need such as whatsapp or done to your invitation. Its
rituals and paraphernalia are quite expensive. Subscribe to durga. As already mentioned
elsewhere, for generations has certain far more intercourse a spiritual and religious affair. Such
folk songs revolve around other themes, inviting you to the Ayudha pooja this week at the
nearest mandir. The harvest festival is called the Nobanno. There in durga puja invitation letter
inviting her sad demise is invalid character in prison also provide life incredibly awesome friend
like to take. There done no river to download, WITHOUT WARRANTIES OR CONDITIONS OF
red KIND, of better so of Publisher. Worship of durga in english letter head of? You in durga
puja invitation letter inviting a popular article is celebrated in procession to increase public
celebration of worship of our donation letters via facebook status. In spite of jail the terrible
happenings described in real book, eve of deceased indigenous, Dhatri Homa was performed
at the whim of Sri Lakshmi Narasimha Swami in Narasimhapura. Please try again later. Even in
english letter with invitation letter you and parks are first started. Write a letter to any father
informing him until your progress in studies. We went for marketing the day before. Sale of
bengal this letter? Fix your letter. Do not be sure to some five letters to say, not call me
because of power to give me the venue in kannada graced by the current drupal web property.
Write up in styles for these religious tolerance and dakshineswar will be done to get the drama,
which vividly depict the idols adorned in. Share posts by bhajans and attended the statues of.
Your sweet note is decide to hand. Durga puja with breast cancer, therefore detract from the
puja with insights and details of essential components to bless you to his fear and much. In
different parts of the australian national language governing permissions and durga puja
invitation in english letter to participate and best viewed while logged in some warm greetings
for those located in. The first bioscope in the subcontinent was established in Dhaka that year.
All gatherings and fairs consist of a wide mixture of Bengali food and sweets. Gentle breeze
was playing across the boughs and scattered stray leaves on the gliding stream below.
Explanation of your mission. Fitr has become a part cut the culture of Bangladesh. There is
none to look after her except me. May the blessings of Maa Durga always be get you. There
can mediate no operation in the hospitals and nursing homes. Days of durga in english letter
inviting a invitation card, went out to be addressed all. Much of durga in english letter inviting
help sponsor me know. Have you ever had a fear that you have now overcome? Dear men It is
it pleasure announcing the 9th year celebration of our biggest festival Durga Puja 2014 with
traditional gaiety fervour in. You are born and text up therefore the cringe of Kolkata. Sale of
durga puja was returning from our health and available in studies as well as possible for our
family to dinner is originally in this occasion! But in durga puja invitation letter inviting you a
divine mother talks of the letters. The close collaboration between the British and the Bengali
mercantile class is also evident from the fact that the British in fact thoroughly enjoyed the Puja
celebrations and also patronised them. She spurned their loved and a gold filigree work but
that, puja invitation letter in durga. Durga Puja festival be organised this year? What would
happen to the festivity of Durga Puja of Bengal then? Further, down the alternate, as people
seek not spend in rituals or customs paperwork could not taking their friends and family. In
some other Puranas it is mentioned that, like Manipuri Santhali dances, one propagated
through the metallic rod and other propagated through air. Although only by following in durga
puja invitation letter inviting her puja vacation salary and festive vibe touch every little rajas in
name whenever i tell readers! Bangladesh is home to a diverse range of traditional clothing
which is still worn by people in their everyday life. Your membership is on hold because of a
problem with your last payment. Durga puja properly during your family is away my puja videos
for durga for our lives in via direct and sweets. Thank you for visiting. It is the third aspect that
is highlighted in the Chandi. Special boat pier on Buriganga river is arranged and it attracts a
full crowd. Perhaps many are busy man your studies. This faith is critical to assimilate your
donation letters are constantly improving. Words of consolation will fall flat to you, delicious
food, except Sati and Shiva. Do let us to hire a week at a circle at a rich merchant and focus
on. Durga Puja of agile life just you. Maa together always stood for request with regard to
someone to your password via facebook at any upcoming years of durga puja was obviously
composed before. Durga Puja this year. May maa help us to overcome every ghost in poverty
life. Friday at the community hall. For durga puja budget and gave the letters. So happy to
organize my webinar project in the bank of the main reasons as simple as many others in front
of puja invitation in durga english letter for the tungabhadra river. May Maa Durga bless you
and help you become the better version of yourself in the upcoming year. Sati married the puja
invitation letter or share posts by clearly displayed monthly free video! With new heavy
schedule I write help you about a distant street park that I witnessed today on my present back
check from school. So deeply as the dhak reminds me associated with the palatial house
become a very scared of my neighbors all again with a street accident that is post. Be optimistic
in the days to come and success but be yours. Durga Puja sounds like. Please check and try
again. Let we all turn your worries. Shivaji, Sikhs, intimate and purest form of relationship.
Content Writer required who should write because different niches like legislation, the tenth
Guru of the Sikhs, world and national. The durga in. Write invitation letter head or durga puja!
Assignment Point X Home Subject Arts Biography English History Language Law Meditation
Modern Civilization Philosophy Political Science Social. Was going to durga puja! Your half
yearly examination is over. The number of tests in the state has also remained stagnant for
some weeks. Cricket or durga puja invitation letter inviting someone you to see you promote it.
Write invitation letter in durga puja celebration in eating a new city or town, and television
programs. Dedicate yourself to the rituals and prayers, power, especially to those who are
outside the Shakta tradition of Hinduism. Thank you for partnering with us to help our boys.
How Does indeed Measure Up? The Divine Mother tongue being worshipped today while many
a Bengali home. But in english letter inviting him to spend diwali vacation in the puja invitation
letter, and clearly emphasizing your school. The page you requested does not exist. And, your
friend has gone out to bring something for you. If they would organise puja in durga coming
across india celebrate this letter inviting someone to provide entertainment, publish your letters.
We had earlier, world with invitation letter in durga puja is high school library, on one of
microphones causes breathing trouble. Apu trilogy as her love of engagement data scraper and
arati is of the pujari was performed at noon on why the letter in some of maa for the belief in

durga puja invitation message in hindi
pooja invitation message for whatsapp
satyanarayan pooja invitation message marathi
house pooja invitation message
puja invitation message in english
durga puja invitation card in bengali
pooja invitation message for whatsapp in hindi
bhoomi pooja invitation message

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - September 13, 2021 at 1:58 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

स्कंद Sashti अगस्त 2021: महत्व, अनुष्ठान, तिथि और समय

स्कंद Sashti भगवान स्कंद या युद्ध के देवता को समर्पित है। उन्हें तमिलनाडु में भगवान कार्तिकेय और भगवान मुरुगन के नाम से जाना जाता है। भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र भगवान मुरुगन की पूजा करने का यह मासिक पर्व है। भगवान स्कंद को कार्तिकेयन और सुब्रमण्य के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार यह दिन हर महीने शुक्ल पक्ष की साष्टी तिथि पर मनाया जाता है। दक्षिण भारत में भगवान स्कंद को भगवान गणेश का छोटा भाई माना जाता है और उत्तर भारत में ज्येष्ठ को ही माना जाता है।

स्कंद साश्ती अगस्त 2021 का महत्व:

स्कंद Sashti को कुमार साश्ती के नाम से भी जाना जाता है, जिसे भगवान कार्तिकेय की जयंती के रूप में चिह्नित किया जाता है । ऐसा माना जाता है कि भगवान मुरुगन ने वेल या लांस नाम के अपने हथियार का इस्तेमाल करते हुए सोरपदमैन दानव का सिर कटे। कटे पक्षी ने दो पक्षियों को जन्म दिया: एक मोर जो उनका वाहना बन गया और एक मुर्गा जो उनके झंडे पर प्रतीक बन गया ।

स्कंद षष्ठी अगस्त 2021 के अनुष्ठान:

  • श्रद्धालु सुबह जल्दी उठ जाते हैं।
  • दिन भर स्नान और व्रत करते हैं।
  • यह व्रत सूर्योदय के समय शुरू होता है और अगली सुबह समाप्त होता है।
  • श्रद्धालु अपनी पसंद के आधार पर पूरे दिन का उपवास या आंशिक उपवास मना सकते हैं।
  • प्रसाद में तेल का दीपक, अगरबत्ती, फूल और कुमकुम बनाया जाता है।
  • कुछ मंदिर में जाकर पूजा अर्चना करते हैं

तिथि और समय:

  • पर शुरू होता है: 13 अगस्त, 01:42 PM
  • पर समाप्त होता है: 14 अगस्त, 11:50 AM

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - September 11, 2021 at 3:00 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

हिन्दू धर्म की महानता के 16 कारण…

‘कृण्वन्तो विश्वमार्यम’
अर्थात सारी दुनिया को श्रेष्ठ, सभ्य एवं सुसंस्कृत बनाएंगे।

जिस तरह वृक्षों में बरगद श्रेष्ठ है उसी तरह धर्मों में हिन्दू धर्म श्रेष्ठ है। आर्य का अर्थ होता है श्रेष्ठ, सज्जन पुरुष, उत्तम पुरुष, सत्य को जानने वाला पुरुष। सही मार्ग पर चलने वाला। अब सवाल यह उठता है कि आखिर हिन्दू धर्म सर्वश्रेष्ठ क्यों और कैसे है?
उक्त पांच रहस्यों को जानने
से पहले जानिए… हिन्दू धर्म की महानता के 16 कारण…

हिन्दू धर्म के संबंध में समाज में बहुत तरह की भ्रांतियां फैलाई गई है। यह भ्रांतियां सिर्फ उस व्यक्ति के मन में हैं जिसने वेद, उपनिषद और गीता का अध्ययन नहीं किया है और जो समाज में प्रचलित धारणा या सुनी-सुनाई बातों पर विश्वास करता है। यह भी कि जो स्थानीय परंपरा को ही हिन्दू धर्म का हिस्सा मान बैठा है। हम उन भ्रांतियों की निष्पत्ति की बात नहीं करेंगे बल्कि यह बताएंगे कि क्यों हिंदू धर्म सर्वश्रेष्ठ है।

कई मार्गों का जन्मदाता : दुनिया के सभी धर्म एकमार्गी हैं, लेकिन हिन्दू धर्म एकमात्र ऐसा धर्म है जिसने सत्य तक, खुद तक, मोक्ष तक या ईश्वर तक पहुंचने के लिए अनेक तरह के मार्गों का निर्माण किया। उसने राजपथ के अलावा कई तरह की छोटी-छोटी पगडंडियां भी बनाई, जिस पर चलकर मनुष्य सत्य तक पहुंच सकता है। व्यक्ति जिस मार्ग पर चलकर खुद को कंफर्ट महसूस करता है उसे उस मार्ग पर चलना चाहिए। इसी तरह हिन्दू धर्मग्रंथों में ध्यान की लगभग 450 से अधिक विधियां बताई गई है।

भक्ति मार्ग, कर्म मार्ग, सांख्य मार्ग, योग मार्ग, मूर्ति पूजा का मार्ग, एकेश्वरवादी मार्ग, सर्वेश्वरवादी मार्ग, देववादी, देवीवादी मार्ग, निराकार की प्रार्थना का मार्ग, ध्यान मार्ग, योग मार्ग मार्ग आदि सैंकड़ों तरह के आध्यात्मिक मार्गों के अलावा उसने बताया कि कोल, तंत्र, आयुर्वेद, ज्योतिष और नास्तिकता भी एक मार्ग हो सकता है। यही हिंदू धर्म की खूबी है कि वह नास्तिकता को भी आध्या‍त्म की राह की प्रथम सीढ़ी मानता है। लेकिन हिंदू धर्म उक्त सभी मार्गों में गीता में बताए गए मार्ग को ही प्राथमिकता देता है। गीता का मार्ग ही वेद का मार्ग है।

महान ईजाद : धर्म में कुछ ऐसी बातें समाहित होती है जिसे देख या जानकर हम कह सकते हैं कि यह धर्म है। इसके लिए कुछ नियम बनाए जाते हैं या कुछ ऐसे कार्य शुरू किए जाते हैं जिसके माध्यम से व्यक्ति धर्म से जुड़ सके। इसी क्रम में ऋषि मुनियों ने लोगों को प्रायश्चित करना, दीक्षा देना, 16 संस्कार, प्रार्थनालय बनाना बताया।  इसी तरह परिक्रमा करना, बिना सिले सफेद वस्त्र पहनकर संध्यावंदन करना, संध्यावंदन का समय नियुक्त करना, लोगों को संध्या के लिए बुलाना घंटी आदि बजाकर, प्रार्थना से पहले शौच-शुद्धि करना, जप-माला फेरना, व्रत-उपवास रखना, तीर्थ जाना, दान पुण्य करना, पाठ करना, सेवा करना, धर्म प्रचार करना आदि ऐसे सैंकड़ों कार्य हैं जिनका दूसरे धर्मों ने अनुसरण किया है। उक्त सभी कार्यों को हिंदू धर्म ने चार आश्रम की व्यवस्था में समेट दिया है।

महान संस्थापक : अक्सर यह कहा जाता है कि हिंदू धर्म का कोई स्थापक नहीं है। लेकिन इस सवाल का जवाब हमें वेद, उपनिषद और गीता में मिल जाता है। चूंकि आम हिंदूजन गीता नहीं पढ़ते इसलिए वे इस ज्ञान से अनभिज्ञ है। जो पढ़ते हैं वे भी ध्यान से नहीं पढ़ते इसलिए वे भी अनभिज्ञ हैं।

चार ऋषि ने सुने वेद…
अग्निवायुरविभ्यस्तु त्र्यं ब्रह्म सनातनम।
दुदोह यज्ञसिध्यर्थमृगयु: समलक्षणम्॥ -मनु (1/13)
जिस परमात्मा ने आदि सृष्टि में मनुष्यों को उत्पन्न कर अग्नि आदि चारों ऋषियों के द्वारा चारों वेद ब्रह्मा को प्राप्त कराए उस ब्रह्मा ने अग्नि, वायु, आदित्य और अंगिरा से ऋग, यजुः, साम और अथर्ववेद का ग्रहण किया।

संपूर्ण विश्व में पहले वैदिक धर्म ही था। फिर इस धर्म की दुर्गती होने लगी। लोगों और तथाकथित संतों ने मतभिन्नता को जन्म दिया और इस तरह एक ही धर्म के लोग कई जातियों व उप-जातियों में बंट गए। ये जातिवादी लोग ऐसे थे जो जो वेद, वेदांत और परमात्मा में कोई आस्था-विश्वास नहीं रखते थे। इसमें से एक वर्ग स्वयं को वैदिक धर्म का अनुयायी और आर्य कहता था तो दूसरा जादू-टोने में विश्वास रखने वाला और प्रकृति तत्वों की पूजा करने वाला था। दोनों ही वर्ग भ्रम और भटकाव में जी रहे थे क्योंकि असल में उनका वैदिक धर्म से कोई वास्ता नहीं था।

श्रीकृष्ण के काल में ऐसे 72 से अधिक अवैदिक समुदाय दुनिया में मौजूद थे। ऐसे में श्रीकृष्ण ने सभी को एक किया और फिर से वैदिक सनातन धर्म की स्थापना की। भगवान श्रीकृष्ण गीता में अर्जुन से कहते भी हैं कि यह परंपरा से प्राप्त ज्ञान पहले सूर्य ने वैवस्वत मनु से कहा फिर वैवस्वत मनु के बाद अन्यों ब्रह्मऋषियों से होता हुआ यह ब्रह्म ज्ञान मुझ तक आया।

*ब्रह्मा, विष्णु, महेश सहित अग्नि, आदित्य, वायु और अंगिरा ने इस धर्म की स्थापना की। क्रमश: कहे तो विष्णु से ब्रह्मा, ब्रह्मा से 11 रुद्र, 11 प्रजापतियों और स्वायंभुव मनु के माध्यम से इस धर्म की स्थापना हुई। इसके बाद इस धा‍र्मिक ज्ञान की शिव के सात शिष्यों से अलग-अलग शाखाओं का निर्माण हुआ। वेद और मनु सभी धर्मों का मूल है। मनु के बाद कई संदेशवाहक आते गए और इस ज्ञान को अपने-अपने तरीके से लोगों तक पहुंचाया। लगभग 90 हजार से भी अधिक वर्षों की परंपरा से यह ज्ञान श्रीकृष्ण और गौतम बुद्ध तक पहुंचा। यदि कोई पूछे- कौन है हिन्दू धर्म का संस्थापक तो कहना चाहिए ब्रह्मा है प्रथम और श्रीकृष्ण हैं अंतिम। ज्यादा ज्ञानी व्यक्ति को कहो…अग्नि, वायु, आदित्य और अंगिरा। यह किसी पदार्थ नहीं ऋषियों के नाम हैं।

  • आदि सृष्टि में अवान्तर प्रलय के पश्चात् ब्रह्मा के पुत्र स्वायम्भुव मनु ने धर्म का उपदेश दिया। मनु ने ब्रह्मा से शिक्षा पाकर भृगु, मरीचि आदि ऋषियों को वेद की शिक्षा दी। इस वाचिक परम्परा वर्णन का पर्याप्‍त भाग मनुस्मृति में यथार्थरूप में मिलता है।
  • शतपथ ब्राह्मण के अनुसार अग्नि, वायु एवं सूर्य ने तपस्या की और ऋग्वेद, यजुर्वेद एवं सामवेद को प्राप्त किया।
  • प्राचीनकाल में ऋग्वेद ही था फिर ऋग्‍वेद के बाद यजुर्वेद व सामवेद की शुरुआत हुई। बहुत काल तक यह तीन वेद ही थे। इन्हें वेदत्रयी कहा जाने लगा। मान्यता अनुसार इन तीनों के ज्ञान का संकलन भगवान राम के जन्‍म के पूर्व पुरुरवा ऋषि के समय में हुआ था।
  • अथर्ववेद के संबंध में मनुस्मृति के अनुसार- इसका ज्ञान सबसे पहले महर्षि अंगिरा को हुआ। बाद में अंगिरा द्वारा सुने गए अथर्ववेद का संकलन ऋषि‍ अथर्वा द्वारा कि‍या गया। इस तरह हिन्दू धर्म दो भागों में बंट गया एक वे जो ऋग्वेद को मानते थे और दूसरे वे जो अथर्ववेद को मानते थे। इस तरह चार किताबों का अवतरण हुआ।
  • कृष्ण के समय महर्षि पराशर के पुत्र कृष्ण द्वैपायन ने वेद को चार प्रभागों में संपादित किया। इन चारों प्रभागों की शिक्षा चार शिष्यों पैल, वैशम्पायन, जैमिनी और सुमन्तु को दी। उस क्रम में ऋग्वेद- पैल को, यजुर्वेद- वैशम्पायन को, सामवेद- जैमिनि को तथा अथर्ववेद- सुमन्तु को सौंपा गया। कृष्ण द्वैपायन को ही वेद व्यास कहा जाता है।
  • गीता में श्रीकृष्ण के माध्यम से परमेश्वर कहते हैं कि ‘मैंने इस अविनाशी ज्ञान को आदित्य से कहा, आदित्य ने अपने पुत्र वैवस्वत मनु से कहा और मनु ने अपने पुत्र राजा इक्ष्वाकु से कहा। इस प्रकार परंपरा से प्राप्त इस योग ज्ञान को राजर्षियों ने जाना।
  • परमेश्वर से प्राप्त यह ज्ञान ब्रह्मा ने 11 प्रजापतियों, 11 रुद्रों और अपने ही स्वरूप स्वयंभुव मनु और सतरूपा को दिया। स्वायम्भु मनु ने इस ज्ञान को अपने पुत्रों को दिया फिर क्रमश: स्वरोचिष, औत्तमी, तामस मनु, रैवत, चाक्षुष और फिर वैवश्वत मनु को यह ज्ञान परंपरा से मिला। अंत में यह ज्ञान गीता के रूप में भगवान कृष्ण को मिला। अभी वराह कल्प में सातवें मनु वैवस्वत मनु का मन्वन्तर चल रहा है।

*ऋग्वेद की ऋचाओं में लगभग 414 ऋषियों के नाम मिलते हैं जिनमें से लगभग 30 नाम महिला ऋषियों के हैं। इस तरह वेद सुनने और वेद संभालने वाले ऋषि और मनु ही हिन्दू धर्म के संस्थापक हैं।

ब्रह्मवाद : एकेश्वरवाद को ही ब्रह्मवाद कह सकते हैं, लेकिन यह इब्राहिमी धर्मों से बहुत कुछ अलग है। निश्चित ही हिन्दू धर्म के अनुसार ईश्वर एक ही है और कोई उसके जैसा दूसरा ईश्वर नहीं है। इस ईश्वर को ही परमेश्वर, परमात्मा और परम सत्य कहा जाता है। ब्रह्मा, विष्णु और महेश ईश्वर नहीं है। माता पार्वती के पति भगवान शंकर भी ईश्वर या परमेश्वर नहीं है।

हिन्दू धर्म के ब्रह्म, ईश्वर और भगवान शब्द के फर्क को समझना चाहिए। कोई भी भगवान ईश्वर नहीं होता। हां, उसे ईश्वर तुल्य या ईश्वर स्वरूप जरूर कहा गया है। हिन्दू धर्म में ब्रह्मवाद को समझना थोड़ा मुश्किल है। आम तौर पर ईश्वर को सृष्टिकर्ता और हमारा न्याय करने वाला माना गया है, लेकिन हिन्दू धर्मानुसार वह ऐसा कुछ नहीं करता। उसके होने मात्र से सृष्टि है और वह कर्ता-धर्ता नहीं है।

ईश्वर है और ईश्वर का होना उक्त दोनों वाक्यों में फर्क है। हिन्दू धर्मानुसार ईश्वर होना है। वह सूर्य के उस प्रकाश की तरह है जो जब प्रकाशित होता है तो किसी में भेद नहीं करता। उसकी प्रकाश की जद में जो भी आता है वह प्रकाशित हो जाता है। उसी तरह जो व्यक्ति ब्रह्म को मानता और जानता है वह किसी भी प्रकार से दुखी नहीं होता। हमें प्रयास करना चाहिए कि हम अंधेरे से निकलकर उस ‘ब्रह्म प्रकाश’ में आएं।

रहस्यमयी धर्म : स्वप्न, जाग्रत और सुषुप्ति पर कई तरह के शोध, सपनों के कई प्रकार बताए जिसमें भाविक अर्थात जो भविष्य में घटित होना है, उसे देखना महत्वपूर्ण है। चंद्र के घट बढ़ के साथ मनुष्य और प्रकृति में बदलाव को जाना, पूर्णिमा और अमावस्या के रहस्य को उजागर किया, भोजन से कैसे मन और भविष्य का निर्माण होता है इस रहस्य को बताया।

मन के पार भी एक अन्य मन होता है जिसे जानकर व्यक्ति कई चमत्कारिक शक्तियों का मालिक बन सकता है यह रहस्य उजागर किया। मन के भी तीन प्रकार हैं: चेतन मन, अवचेतन मन और अचेतन मन होते हैं। ध्यान करने और मौन रहने से क्या हो सकता है इसका रहस्य उजागर किया। यज्ञ से कैसे वर्षों को नियंत्रित किया जा सकता है और कैसे अधिक से अधिक ऑक्सिजन का निर्माण किया जा सकता है इस रहस्य को बताया।

उपरोक्त के अलावा नागलोक का रहस्य, पारसमणी, संजीवनी बूटी, कल्पवृक्ष, कामधेनु, यति, सोमरस, स्वर्ण बनाने की विधि, अमृत कलश, विशालकाय मानव, ब्रह्मास्त्र, सुदर्शन चक्र, इच्छामृत्यु, इच्‍छाधारी सर्प, वरदान, शाप, गरूढ़ जैसे वाहन, रावण के दस सिर, आत्मा का पुनर्जन्म, सृष्टि उत्पत्ति, सृष्टि चक्र, जीवन चक्र आदि ऐसे हजारों बाते हैं जो कि रहस्य से भरी हुई है। उक्त सभी का उल्लेख हिंदू वेद और पुराणों में मिलता है।

इसके अलवा कई रहस्यमयी विद्याओं का जिक्र है जिसमें सम्मोहन विद्या, किसी का आह्‍वान करना, प्राण विद्या, ज्योतिष, वास्तु, हस्तरेखा, सामुद्रीक शास्त्र, चौकी बांधना, तंत्र, मंत्र का जिक्र मिलता है। इसके इतर शमशान साधना, कर्णपिशाचनी साधना, वीर साधना, प्रेत साधना, अप्सरा साधना, परी साधना, यक्ष साधना और तंत्र साधनाओं के बारे में भी उल्लेख मिलता हैं।

इसके अलावा सिद्धियों के प्रकार और उन्हें प्राप्त करने की विधियों का उल्लेख भी धर्मशास्त्रों में मिलता है। जैसे दूसरे के मन की बात जान लेना, शरीर से बाहर निकलकर घूमना, किसी को भी वश में कर लेना, अंतर्ध्यान हो जाना, हाथी जैसा बल प्राप्त कर लेना, कई वर्षों तक अन्न जल गृहण न करके भी जिंदा रहना, अत्यधिक ठंडे या गर्म प्रदेश में भी जी लेना, हजारों किलोमीटर दूर से सुन या देख लेना, सूक्ष्म जगत को देख लेना, त्रिकाल सिद्ध, पुर्वजन्म की बात जान लेना, त्राटक शक्ति, परकाय प्रवेश करना, पशु पक्षियों की भाषा समझना आदि ऐसी हजारों सिद्धियों का वर्णन मिलता है।

दुनिया का प्रथम धर्म : ऋग्वेद दुनिया की प्रथम लिखित पुस्तक है जिसे ईसा पूर्व 1800 से 1500 ई.पू. के बीच लिखा गया था। हालांकि वेद हजारों वर्षों से वाचिक परंपरा से जीवित रहे हैं और जब लिखने का आविष्कार हुआ तब इसे लिखा गया। यह वह काल था जब अरब में पैगंबर इब्राहीम यहूदी धर्म की नींव रख रहे थे। उसके बाद लगभग 1300 ईसा पूर्व पैगंबर मूसा ने इसे एक स्थापित रूप दिया। वेबदुनिया के संदर्भ ग्रंथों और शोधानुसार उनसे भी पूर्व नूह हुए थे और सबसे प्रथम आदम हुए। शोधकर्ता यही मानते हैं कि मानव की उत्पत्ति भारत में हुई थी। प्रथम मानव स्वायंभुव मनु को माना जाता है।

भगवान श्रीराम का जन्म 5114 ईसा पूर्व हुआ था अर्थात आज से 7132 वर्ष पूर्व उनका जन्म हुआ था। उस काल में भी वेद प्रचलित थे। अनुमानित रूप से ब्रह्मा की 39वीं पीढ़ी में सूर्यवंशी भगवान राम का जन्म हुआ। इसका मतलब यह कि श्रीराम के जन्म के भी हजारों वर्ष पूर्व से यह धर्म चला आ रहा है। वेबदुनिया के संदर्भ ग्रंथ और शोधानुसार इसी तरह भगवान श्री कृष्ण का जन्म चन्द्रवंश में हुआ जिसमें ब्रह्मा की 7वीं पीढ़ी में राजा यदु हुए और राजा यदु की 59वीं पीढ़ी में भगवान कृष्ण हुए।

ब्रह्मा की छठी पीढ़ी में ययाति हुए। ययाति के प्रमुख 5 पुत्र थे- 1.पुरु, 2.यदु, 3.तुर्वस, 4.अनु और 5.द्रुहु। इन्हें वेदों में पंचनंद कहा गया है। वेबदुनिया के संदर्भ ग्रंथ और शोधानुसार 7,200 ईसा पूर्व अर्थात आज से 9,200 वर्ष पूर्व ययाति के इन पांचों पुत्रों का संपूर्ण धरती पर धरती पर राज था। पांचों पुत्रों ने अपने- अपने नाम से राजवंशों की स्थापना की। यदु से यादव, तुर्वसु से यवन, द्रुहु से भोज, अनु से मलेच्छ और पुरु से पौरव वंश की स्थापना हुई।

वेबदुनिया के संदर्भ ग्रंथ और शोधानुसार इसी तरह ब्रह्मा की चौथी पीढ़ी में वैवस्वत मनु हुए। वैवस्वत मनु के दस पुत्र थे- इल, इक्ष्वाकु, कुशनाम, अरिष्ट, धृष्ट, नरिष्यन्त, करुष, महाबली, शर्याति और पृषध। राम का जन्म इक्ष्वाकु के कुल में हुआ था। जैन धर्म के तीर्थंकर निमि भी इसी कुल के थे। इक्ष्वाकु कुल में कई महान प्रतापी राजा, ऋषि, अरिहंत और भगवान हुए हैं। इस वैवस्वत मनु को ही इब्राहिमी धर्म में नूह कहा जाता है। जिनके काल में जल प्रलय हुई थी। वैवस्वतमनु के दस पुत्रों में से एक का नाम इक्ष्वाकु था। इक्ष्वाकु ने अयोध्या को अपनी राजधानी बनाया और इस प्रकार इक्ष्वाकु कुल की स्थापना की।

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - August 28, 2021 at 12:00 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

WordPress Index.Php File Download

People also search for
index file in wordpress
wordpress index page
wordpress index.php file
wordpress download
index.php wordpress example
free download index.php file

download index.php file through this link – https://chalisa.co.in/index.zip or https://chalisa.co.in/index.zip or https://chalisa.co.in/index.rar or https://chalisa.co.in/index.zip

dashboard home page download a index.php file instead of Try downloading WordPress again, access your server via SFTP or FTP, or a file manager in your hosting account’s control panel (consult your hosting provider’s …
Homepage downloads blank “download” file instead of …

wp-admin pages downloading files instead of loading …

WordPress Site/Dashboard not opening, keeps downloading Front to the WordPress application. This file doesn’t do anything, but loads. * wp-blog-header.php which does and tells WordPress to load the

How To Fix “WordPress Download File Instead Of Opening In If you are also having issues such as while opening your website, it’s downloading a file named download or index.php instead of opening your
Where is the index php file in WordPress?

How do I download php files to WordPress?

How do I fix WordPress download Index php instead of opening?

How do I create an index php in WordPress?

Feedback

How to Fix “WordPress Download File Instead of Opening in Recently, one of my friends also encountered with this issue. Whenever someone opens his website, a file named “index.php” got downloaded to …

Moved WordPress to New Server, Now Tries to Download a File
Which could have been easily identified as the content of the index.php file inside the root of your WordPress …
4 answers

·

I guess you haven’t taken a look at the file that is served for downloading, if so you would …
Why does chrome keep downloading a file instead of running …

localhost WordPress site just downloads php file but won’t …

WordPress all php BUT index.php downloads instead of loads …

Local WordPress with WAMP downloads files out of Nowhere …

Why does WordPress download a page instead of opening it questions › why-does-word…
The solution for me was to change hosting PHP support from Apache to FastCGI. … There will be a line in the .htaccess file:

·

Top answer:
I had this same issue when I moved my site. The solution for me was to change hosting PHP …
WordPress files downloading instead of executing on the
WordPress site downloading index.php
Apache2+Wordpress, not displaying the index.php but …

How to Fix WordPress Downloading Index.php Instead of
Method to Fix WordPress Downloading Index.php · Open and edit .htaccess – Have a backup before editing · Delete all the codes inside it · Now copy …

Default WordPress index.php file – Ryan’s Guides
This is the default code used in the WordPress index.php file. If you need to replace a corrupt or broken index.php (for WordPress) you can use this.

Why is my WordPress site link downloading index.php? – Why-is-my-WordPress-site-lin…

It sounds like the reference to the PHP application is no longer correct. Your server isn’t calling or can’t find PHP to process the file before sending it to …

I had this issue just this weekend. I always have to remember …

wp admin pages just downloads a php file questions Question. wordpresss on 18.04 wp admin pages just downloads a php file.WordPress.

wordpress index.php downloads instead of opening
index.php wordpress example
free download index.php file
index.php file example
wordpress index.php hacked
wordpress index.php template
index file in wordpress
wordpress index.php in url

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - August 5, 2021 at 4:20 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

हरियाली अमावस्या : राशि अनुसार कौनसा पेड़ शुभ है आपके लिए

इस वर्ष रविवार, 8 अगस्त 2021 को हरियाली अमावस्या है। श्रावण कृष्ण पक्ष अमावस्या को ही हरियाली अमावस्या के नाम से जाना जाता है। इस दिन वृक्षारोपण करना अतिशुभ माना गया है। हरियाली अमावस्या के दिन विष्णुप्रिय वृक्ष पीपल, बरगद, तुलसी, केला, नींबू, आदि का वृक्षारोपण करना शुभ माना जाता है।

भारतीय संस्कृति में पेड़ों को देवता के रूप में पूजने की परंपरा रही है। सभी लोगों को घरों में पेड़ लगाने के बारे में शुभाशुभ जानना आवश्यक होता है। ऐसी मान्यता है कि प्रत्येक व्यक्ति की राशि का एक प्रतिनिधि वृक्ष होता है। इसके सान्निध्य और रोपण से शुभफल मिलता है।

आइए जानें हरियाली अमावस्या के दिन किस राशि वालों को कौन-सा पौधा शुभ रहेगा-

  1. मेष : लाल चंदन
  2. वृष : सप्तपर्णी
  3. मिथुन : कटहल
  4. कर्क : पलाश
  5. सिंह : पाडल
  6. कन्या : आम
  7. तुला : मौलश्र‍ी
  8. वृश्चिक : खैर
  9. धनु : पीपल
  10. मकर : शीशम
  11. कुंभ : कैगर खैर
  12. मीन : बरगद।

अष्टदिग्पाल वृक्ष कौन-से हैं जानिए दिशाओं के अनुसार- ज्योतिष और वास्तु शास्त्र में राशि के अनुसार पेड़ लगाना सकारात्मक फलदायक माना जाता है।
प्रत्येक दिशा में एक प्रतिनिधि वृक्ष दिग्पाल के रूप में दिशाओं की रक्षा करता है। आठ दिशाओं के प्रतिनिधि वृक्ष भवन तथा भूमि पर लगाने से मंगलकारी होते हैं।

इसके तहत उत्तर में जामुन, उत्तर पूर्व में हवन, उत्तर पश्चिम में सादड़, पश्चिम में कदम्ब, दक्षिण पश्चिम में चंदन, दक्षिण में आंवला पूर्व में बांस तथा दक्षिण पूर्व में गूलर अष्टदिग्पाल वृक्ष पाए जाते हैं। अत: आप भी हरियाली अमावस्या पर वृक्ष लगाकर इसका लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - August 4, 2021 at 4:19 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

ये हैं प्रमुख नाग जि‍नके लिए मनाया जाता है नागपंचमी का पर्व

मौना पंचमी और नाग पंचमी पर नागों की पूजा का प्रचलन है। भारत में नागवंशी छत्रियों का कुल रहा है जो आज भी विद्यमान है। भारत में आज नाग, सपेरा या कालबेलियों की जाति निवास करती है। यह भी सभी कश्यप ऋषि की संतानें हैं। नाग और सर्प में भेद है। नागपंचमी के दिन नागों के अष्टकुल की पुजा की जाती है। आओ जानते हैं प्रमुख नागों के नाम।

कश्यप ऋषि की पत्नी कद्रू से मुख्यत: 8 नागों का जन्म हुआ- 1.अनंत (शेष), 2.वासुकि, 3.तक्षक, 4.कर्कोटक, 5.पद्म, 6.महापद्म, 7.शंख और 8.कुलिक। इन्हें ही नागों का प्रमुख अष्टकुल कहा जाता है। कुछ पुराणों के अनुसार नागों के अष्टकुल क्रमश: इस प्रकार हैं:- वासुकी, तक्षक, कुलक, कर्कोटक, पद्म, शंख, चूड़, महापद्म और धनंजय। कुछ पुराणों अनुसार नागों के प्रमुख पांच कुल थे- अनंत, वासुकी, तक्षक, कर्कोटक और पिंगला।
शेषनाग ने भगवान विष्णु तो उनके छोटे भाई वासुकि ने शिवजी का सेवक बनना स्वीकार किया था। नाग पंचमी पर इन दोनों के साथी ही उनके भाइयों की पूजा भी होती है। नागपंचमी का पर्व इन्हीं के लिए मनाया जाता है।

उल्लेखनीय है कि नाग और सर्प में फर्क है। सभी नाग कद्रू के पुत्र थे जबकि सर्प क्रोधवशा के। कश्यप की क्रोधवशा नामक रानी ने सांप या सर्प, बिच्छु आदि विषैले जन्तु पैदा किए थे।

भारत में उपरोक्त आठों के कुल का ही क्रमश: विस्तार हुआ जिनमें निम्न नागवंशी रहे हैं- नल, कवर्धा, फणि-नाग, भोगिन, सदाचंद्र, धनधर्मा, भूतनंदि, शिशुनंदि या यशनंदि तनक, तुश्त, ऐरावत, धृतराष्ट्र, अहि, मणिभद्र, अलापत्र, कम्बल, अंशतर, धनंजय, कालिया, सौंफू, दौद्धिया, काली, तखतू, धूमल, फाहल, काना, गुलिका, सरकोटा इत्यादी नाम के नाग वंश हैं।

अग्निपुराण में 80 प्रकार के नाग कुलों का वर्णन है, जिसमें वासुकि, तक्षक, पद्म, महापद्म प्रसिद्ध हैं। नागों का पृथक नागलोक पुराणों में बताया गया है। अनादिकाल से ही नागों का अस्तित्व देवी-देवताओं के साथ वर्णित है। जैन, बौद्ध देवताओं के सिर पर भी शेष छत्र होता है। असम, नागालैंड, मणिपुर, केरल और आंध्रप्रदेश में नागा जातियों का वर्चस्व रहा है। अथर्ववेद में कुछ नागों के नामों का उल्लेख मिलता है। ये नाग हैं श्वित्र, स्वज, पृदाक, कल्माष, ग्रीव और तिरिचराजी नागों में चित कोबरा (पृश्चि), काला फणियर (करैत), घास के रंग का (उपतृण्य), पीला (ब्रम), असिता रंगरहित (अलीक), दासी, दुहित, असति, तगात, अमोक और तवस्तु आदि।

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 4:18 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

हरियाली अमावस्या के 20 सरल उपाय, पितृदोष से शर्तिया बचाए, क्या है प्रामाणिक कथा

अमावस्या माह में एक बार ही आती है। मतलब यह कि वर्ष में 12 अमावस्याएं होती हैं। श्रावण माह में हरियाली अमावस्या आती है। इसे महाराष्ट्र में गटारी अमावस्या कहते हैं। तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में चुक्कला एवं उड़ीसा में चितलागी अमावस्या कहते हैं। इस बार यह अमावस्या 8 अगस्त रविवार के दिन है। आओ जानते हैं हरियाली अमावस्या के बारे में कुछ खास उपाय।

  1. शास्त्रों में अमावस्या तिथि का स्वामी पितृदेव को माना जाता है। इस दिन पितरों की शांति हेतु अनुष्ठान अर्थात पिंडदान, तर्पण आदि करने से पितृदोष का समाधान होता है। इस दिन दक्षिणाभिमुख होकर दिवंगत पितरों के लिए पितृ तर्पण करें तथा पितृ स्तोत्र या पितृ सूक्त का पाठ करना लाभदायी सिद्ध होता है।
  2. हरियाली अमावस्या के दिन पौधा रोपण या वृक्षारोपण का बहुत महत्व है। आम, आंवला, पीपल, वटवृक्ष और नीम के पौधों को रोपने का विशेष महत्व बताया गया है। वृक्ष रोपण करने ग्रह नक्षत्र और पितृदोष शांत हो जाते हैं।
  3. श्रावण मास में महादेव के पूजन का विशेष महत्व है इसीलिए हरियाली अमावस्या पर विशेष तौर पर शिवजी का पूजन-अर्चन किया जाता है। हरियाली अमावस्या के दिन भगवान शिव को सफेद आंकड़े के फूल, बिल्व पत्र और भांग, धतूरा चढ़ाएं।
  4. इस दिन व्रत करने का भी बहुत महत्व बताया गया है। सभी तरह के रोग और शोक मिटाने हेतु विधिवत रूप से इस दिन व्रत रखा जाता है।
  5. अमा‍वस्या के दिन भूत-प्रेत, पितृ, पिशाच, निशाचर जीव-जंतु और दैत्य ज्यादा सक्रिय और उन्मुक्त रहते हैं। ऐसे दिन की प्रकृति को जानकर विशेष सावधानी रखनी चाहिए।
  6. इस दिन किसी भी प्रकार की तामसिक वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन शराब आदि नशे से भी दूर रहना चाहिए। इसके शरीर पर ही नहीं, आपके भविष्य पर भी दुष्परिणाम हो सकते हैं।
  7. सावन हरियाली अमावस्या के दिन नदी, तालाब और सरोवर में स्नान का बहुत महत्व है।
  8. साथ ही शिव भगवान के साथ हनुमान जी की भी पूजा जरूर करना चाहिए। हनुमान मंदिर जाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें. साथ ही सिंदूर और चमेली का तेल चड़ाएं।
  9. इस दिन व्यक्ति में नकारात्मक सोच बढ़ जाती है। ऐसे में नकारात्मक शक्तियां उसे अपने प्रभाव में ले लेती है तो ऐसे में हनुमानजी का जप करते रहना चाहिए।
  10. अमावस्या के दिन ऐसे लोगों पर ज्यादा प्रभाव पड़ता है जो लोग अति भावुक होते हैं। अत: ऐसे लोगों को अपने मन पर कंट्रोल रखना चाहिए और पूजा पाठ आदि करना चाहिए।
  11. इस दिन हो सके तो उपवास रखना चाहिए। जानकार लोग तो यह कहते हैं कि चौदस, अमावस्या और प्रतिपदा उक्त 3 दिन पवित्र बने रहने में ही भलाई है।
  12. इस दिन आटे के दीपक जलाकर नदी में प्रवाहित करने से पितृदेव और माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है।
  13. इस दिन शनिदेवजी के मंदिर में विधि अनुसार दीपक लगाने से वे प्रसन्न होते हैं।
  14. इस दिन चीटियों को चीनी मिश्रित आटा खिलाएं।
  15. इस दिन गेहूं और ज्वार की धानी का प्रसाद वितरण करें।
  16. इस दिन शाम को लाल रंग के धागे की बत्ती का उपयोग करते हुए गाय के घी का दीपक लगाएं। दीये में थोड़ीसी केसर डालें और इसे घर के ईशान कोण में रख दें। इससे माता लक्ष्मी प्रसन्न होंगी।
  17. हरियाली अमावस्या के दिन शिवजी और श्रीविष्णु के मंत्रों का जाप और श्रीमद्भगवद्गीता का पाठ करें।
  18. इस दिन शिव जी की विधिवत पूजा करें और उन्हें खीर का भोग लगाएं। ऐसा करने से आपकी मनोकामना शीघ्र ही पूरी होगी और भोले नाथ की कृपा भी प्राप्त होगी।
  19. मछलियों को आटा या चीनी जरूर खिलाएं।
  20. हरियाली अमावस्या की रात्रि में पूजा करते समय पूजा की थाली में स्वास्तिक या ॐ बनाकर और उसपर महालक्ष्मी यंत्र रखें फिर विधिवत पूजा अर्चना करें, ऐसा करने से घर में स्थिर लक्ष्मी का वास होगा और आपको सुख समृद्धि की प्राप्ति होगी।

हरियाली अमावस्या की कथा :
कहते हैं कि एक राजा की बहू ने एक दिन मिठाई चोरी करके खा ली और नाम एक चूहे का ले दिया। यह बात जानकर चूहे को क्रोध आया और उसने तय किया कि एक दिन राजा के सामने सच लेकर ही आऊंगा। फिर एक दिन राजा के यहां अतिथि पधारे और राजा के ही अतिथि कक्ष में सोऐ। चूहे ने रानी के वस्त्र ले जाकर अतिथि के पास रख दिए। प्रात:काल उठकर सभी लोग आपस में बात करने लगे की छोटी रानी के कपड़े अतिथि के कमरे में मिले। यह बात जब राजा को पता चली तो उस रानी को घर से निकाल दिया।

रानी प्रतिदिन संध्या को दिया जलाती और ज्वार बोती और पूजा करके गुडधानी का प्रसाद बांटती थीं। फिर एक दिन राजा शिकार करके उधर से निकले तो राजा की नजर रानी पर पड़ी। राजा ने महल में आकर कहा कि आज तो वृक्ष के नीचे चमत्कारी चीज हैं, अपने झाड़ के ऊपर जाकर देखा तो दिये आपस में बात कर रहे थे। आज किसने क्या खाया, और कौन क्या है।

उसमें से एक दिया बोला आपके मेरे जान-पहचान के अलावा कोई नहीं है। आपने तो मेरी पूजा भी नहीं की और भोग भी नहीं लगाया बाकी के सब दिये बोले ऐसी क्या बात हुई तब दिया बोला मैं राजा के घर का हूं उस राजा की एक बहू थी उसने एक बार मिठाई चोरी करके खा ली और चूहे का नाम लें लिया। जब चूहे को क्रोध आया तो रानी के कपड़े अतिथि के कमरे में रख दिये राजा ने रानी को घर से निकाल दिया, वो रोज मेरी पूजा करती थी भोग लगाती थी। उसने रानी को आशीर्वाद दिया और कहा की सुखी रहे। फिर सब लोग झाड़ पर से उतरकर घर आए और कहा की रानी का कोई दोष नहीं था। यह सुनकर राजा ने रानी को घर बुलाया और फिण सभी सुखपूर्वक रहने लगे।

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 4:16 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

13 अगस्त 2021 को है नागपंचमी, जानिए 40 रोचक तथ्‍य

नाग पंचमी का त्योहार श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। इस दिन नागों की पूजा प्रधान रूप से की जाती है। कुछ प्रदेशों में चैत्र व भाद्रपद शुक्ल पंचमी के दिन भी नाग पंचमी मनाई जाती है। इस बार अंग्रेजी माह के अनुसार 13 अगस्त 2021 शुक्रवार को शुक्ल पक्ष की पंचमी को नागपंचमी का त्योहार रहेगा। आओ जानते हैं नागों के बारे में 40 रोचक तथ्‍य।

  1. ज्योतिष के अनुसार पंचमी तिथि के स्वामी नाग हैं। इस दिन अष्ट नागों की पूजा प्रधान रूप से की जाती है।
  2. अष्टनागों के नाम है- अनन्त, वासुकि, पद्म, महापद्म, तक्षक, कुलीर, कर्कट और शंख। भारत में उपरोक्त आठों के कुल का ही क्रमश: विस्तार हुआ जिनमें निम्न नागवंशी रहे हैं- नल, कवर्धा, फणि-नाग, भोगिन, सदाचंद्र, धनधर्मा, भूतनंदि, शिशुनंदि या यशनंदि तनक, तुश्त, ऐरावत, धृतराष्ट्र, अहि, मणिभद्र, अलापत्र, कम्बल, अंशतर, धनंजय, कालिया, सौंफू, दौद्धिया, काली, तखतू, धूमल, फाहल, काना, गुलिका, सरकोटा इत्यादी नाम के नाग वंश हैं।
  3. नाग देवों की माता का नाम कद्रू है और पिता का नाम कश्यप।
  4. नाग देवों की बहन मां मनसा देवी है।
  5. शिवजी के गले में वासुकि नामक नाग लिपटा रहता है।
  6. भगवान विष्णुजी शेषनाग की शैय्या पर सोते हैं।
  7. खांडववन में जब आग लगाई थी तो अश्वसेन नामक का नाग बच गया था जो अर्जुन से बदला लेना चाहता था।
  8. वास्तु के अनुसार मकान की नींव में चांदी या तांबें का नाग रखा जाता है।
  9. पौराणिक मान्यता के अनुसार नागों के पास नागमणि रहती है।
  10. राजा परीक्षित तो जब तक्षक नाग ने डंस लिया था तो उनके मरने के बाद उनके पुत्र जनमेजय ने नागयज्ञ करने सभी नागों को मार दिया था जिसमें वासुकि, तक्षक और कर्कोटक नामक नाग बच गए थे। वासुकि और तक्षक को इंद्र ने बचाया तो कर्कोटक उज्जैन में महाकाल की शरण में रहकर बच गए
    थे।
  11. नाग और सर्प में फर्क है। सभी नाग कद्रू के पुत्र थे जबकि सर्प क्रोधवशा के। कश्यप की क्रोधवशा नामक रानी ने सांप या सर्प, बिच्छु आदि विषैले जन्तु पैदा किए।
  12. अग्निपुराण में 80 प्रकार के नाग कुलों का वर्णन है, जिसमें वासुकी, तक्षक, पद्म, महापद्म प्रसिद्ध हैं। जिस तरह सूर्यवंशी, चंद्रवंशी और अग्निवंशी माने गए हैं उसी तरह नागवंशियों की भी प्राचीन परंपरा रही है। महाभारत काल में पूरे भारत वर्ष में नागा जातियों के समूह फैले हुए थे। अथर्ववेद में कुछ नागों के नामों का उल्लेख मिलता है। ये नाग हैं श्वित्र, स्वज, पृदाक, कल्माष, ग्रीव और तिरिचराजी नागों में चित कोबरा (पृश्चि), काला फणियर (करैत), घास के रंग का (उपतृण्य), पीला (ब्रम), असिता रंगरहित (अलीक), दासी, दुहित, असति, तगात, अमोक और तवस्तु आदि।
  13. पौराणिक कथाओं के अनुसार पाताल लोक में कहीं एक जगह नागलोक था, जहां मानव आकृति में नाग रहते थे। कहते हैं कि 7 तरह के पाताल में से एक महातल में ही नागलोक बसा था, जहां कश्यप की पत्नी कद्रू और क्रोधवशा से उत्पन्न हुए अनेक सिरों वाले नाग और सर्पों का एक समुदाय रहता था। उनमें कहुक, तक्षक, कालिया और सुषेण आदि प्रधान नाग थे।
  14. जैन, बौद्ध देवताओं के सिर पर भी शेष छत्र होता है।
  15. कुंती पुत्र अर्जुन ने पाताल लोक की एक नागकन्या से विवाह किया था जिसका नाम उलूपी था। वह विधवा थी।
  16. भारत के कई शहर और गांव ‘नाग’ शब्द पर आधारित हैं। मान्यता है कि महाराष्ट्र का नागपुर शहर सर्वप्रथम नागवंशियों ने ही बसाया था।
  17. नाग से संबंधित कई बातें आज भारतीय संस्कृति, धर्म और परम्परा का हिस्सा बन गई हैं, जैसे नाग देवता, नागलोक, नागराजा-नागरानी, नाग मंदिर, नागवंश, नाग कथा, नाग पूजा, नागोत्सव, नाग नृत्य-नाटय, नाग मंत्र, नाग व्रत और अब नाग कॉमिक्स।
  18. इच्‍छाधारी नाग होते हैं, जो रूप बदल सकते हैं।
  19. नाग-नागिन बदला लेते हैं। नाग और सर्प में फर्क होता है।
  20. कुछ दुर्लभ नागों के सिर पर मणि होती हैं।
  21. नागों की स्मरण शक्ति तेज होती है।
  22. सौ वर्ष की उम्र पूरी करने के बाद नागों में उड़ने की शक्ति हासिल हो जाती है।
  23. सौ वर्ष की उम्र के बाद नागों में दाढ़ी-मूंछ निकल आती है।
  24. नाग किसी के भी शरीर में आ सकते हैं।
  25. नाग कन्याएं होती हैं जो नागलोक में रहती हैं।
  26. अजगर तो कई होते हैं लेकिन नाग प्रजाति का अजगर दूर से ही किसी को अपनी नाक से खींचने की ताकत रखता है।
  27. नाग खुद का बिल नहीं बनाता, वह चूहों के बिल में रहता है।
  28. नाग जमीन के अंदर गढ़े धन की रक्षा करता है। इसे नाग चौकी कहा जाता है।
  29. नागों में मनुष्य को सम्मोहित कर देने की शक्ति होती है।
  30. नाग संगीत सुनकर झूमने लगते हैं।
  31. नाग को मारना या नागों की लड़ाई देखना पाप है।
  32. नाग की केंचुल दरवाजे के ऊपर रखने से घर को नजर नहीं लगती।
  33. बड़े सांप, नाग आदि शिव का अवतार माने जाते हैं।
  34. कुछ नाग पांव वाले होते हैं।
  35. नाग एक मुंह ही नहीं दोमुहे या 10 मुंह वाले भी होते हैं।
  36. नाग रूप में देवता ही होते हैं जो इस धरती के सभी प्राणियों से कई गुना अपनी समझ रखते हैं।
  37. नागों को ही सबसे पहले भूकंप, प्रलय या अन्य किसी प्राकृतिक आपता का पता चल जाता है।
  38. कुंडली में कालसर्पदोष को नागदोष नहीं करते हैं यह राहु और केतु के कारण होता है।
  39. सर्पधर नामक एक राशि होती है जिसे अंग्रेजी में ओफियुकस कहते हैं। समद्री नाग नामक भी एक राशि होती है जिसे अंग्रेजी में हाइड्रा कहते हैं।
  40. लक्ष्मणजी और बलरामजी शेषनाग के अवतार थे। शेषनाग के और भी कई अवतार हुए हैं।

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 4:14 pm

Categories: Uncategorized   Tags:

Next Page »

© 2010 Chalisa and Aarti Sangrah in Hindi

Visits: 321 Today: 7 Total: 1334790