इन रोमांटिक देवी-देवताओं की अद्भुत प्रेम कहानी हैरान करती है

भारतीय पौराणिक कथाओं की तरह दूसरे देशों की भी कुछ पौराणिक कथाएं और मान्यताएं हैं। भारत में जिस तरह रति और कामदेव को प्रेम के देवता कहा जाता है। और इनके विषय में यह कहा जाता है कि यह लोगों के मन में प्रेम और काम भाव उत्पन्न करते हैं। उसी प्रकार यूनान की पौराणिक कथाओं और मान्यताओं में कुछ ऐसे देवी देवताओं का जिक्र किया गया है जिनका प्रेम संबंध और रिश्ता बड़ा ही अनोखा और हैरान करने वाला है। आइये यूनान के उन सात देवी देवताओं के बारे में जानें जो यूनान में बहुत ही रोमांटिक माने जाते हैं और इनके प्रेम संबंध लोगों को चकित करते हैं।

यूनान की पौराणिक कथाओं में ओसिएनस देवता और टेथिस देवी की बड़ी मान्यता है। ओसिएनस समुद्र के देवता माने जाते हैं और टेथिस नदियों की देवी कहलाती हैं। यह दोनों देवी देवता आपस में भाई बहन और पति पत्नी भी थे। इनके माता पिता थे आवरेनस (आकाश) और गिया (धरती)। पति पत्नी के तौर पर इन दोनों ने तीन हजार देवियों को जन्म दिया जो ओसिनाड्स कहलाते हैं। इनकी संतानों में कई प्रमुख नदियां भी मानी जाती हैं जिनमें नील नदी भी शामिल है।

यूनान के रोमांटिक देवताओं में प्रमुखता से जिउस का नाम लिया जाता है। इनके बारे में कहा जाता है कि इनके संबंध नौ देवियों से रहे जिनसे इनके 21 बच्चे हुए। यूनानी मान्यता के अनुसार यह ओलंपस पर्वत पर रहते थे और पूरे ओलंपिया पर राज करते थे। ओलंपस पर्वत पर जिउस का मंदिर भी है जहां से पहली बार सूर्य की किरणों से ओलंपिक की मशाल जलाई गयी थी।

यूनान की पौराणिक कथाओं में निमोसिन देवी का जिक्र आता है यह स्मृति यानी यादद्श्त की देवी मानी जाती हैं। जिउस जो बहुत ही रोमांटिक देवता था उनके साथ इनका कुछ समय लिए रिश्ता बना। माना जाता है कि एक बार नौ दिन और नौ रात जिउस और नमोसिन एक साथ रहे। इनके संबंध से नौ कला की देवियों का जन्म हुआ।

टेथिस और ओसिएनस की तीन हजार बेटियों में से प्लाओनी और एथरा का नाम भी शामिल है। इन दोनों से यूनान देवता एटलस ने विवाह किया। प्लाओनी से एटलस की सात बेटियां हुई। एथरा से भी एटलस के कई संतान थी। एटलस की एक अन्य पत्नी फोइबी भी मानी जाती हैं। फेइबी एटलस की बहन भी मानी जाती है। फेइबी के बारे में कहा जाता है कि इनकी शादी कोइअस के साथ भी हुआ माना जाता है। कोइअस फेइबी का भाई था जिससे इनकी दो संतान हुई थी।

यूरेनस की हत्या करने वाला उसका ही पुत्र क्रोनस था जिसने अपनी बहन रेह के साथ मिलकर छह बच्चों को जन्म दिया। क्रोनस एक दैत्य था जो अपने बच्चों को निगल जाता था। इससे परेशान होकर एक दिन रेह ने अपने सबसे छोटे बेटे जिउस को पिता को मारने के लिए भेजा। जिउस ने अपने पिता क्रोनस को जहर दे दिया। क्रोनस ने जब अपने पिता यूरेनस की हत्या की थी उसी समय उसे पिता का शाप मिला था कि अपने ही बेटे के हाथों तुम्हारी मृत्यु होगी जो सच साबित हुई।

यूनान के चौथे रोमांटिक देवता के रूप में यूरेनस का नाम लिया जाता है जिन्होंने अपनी मा गिया यानी धरती के साथ मिलकर 12 बच्चों को जन्म दिया। यह सभी बच्चे दैत्य थे। इनकी पहली संतान के 50 सिर और 100 हाथ थे। यूरेनस के ही एक पुत्र क्रोनस ने इनकी हत्या कर दी थी।

ऐरेबस देवता को अंधकार का अवतार और प्रतीक माना जाता है। इनकी पत्नी है निक्स जो आपस में भाई बहन भी माने जाते हैं। ऐरेबस और निक्स के 14 बच्चे हुए जिनमें हिप्नोस यानी नींद के देवता और ईरिस कलह की देवी प्रमुख हैं। ऐरेबस की पत्नी को रात की देवी माना जाता है क्योंकि यह रात लेकर आती है।